भारत को धमकी देना ड्रैगन को पड़ा महंगा, अब मचेगा LAC पर बवाल

458

भारत और चीन के बीच रिश्ते परिलक्षित हैं। दोनों देशों के बीच एलएसी पर तनाव की स्थिति बरकरार है। इस तनाव को खत्म करने की कोशिश जारी है। मगर इस कोशिश के बीच ड्रैगन का रूख मुख्तलिफ नजर आ रहा है। वो इसलिए..चूंकि एक तरफ जहां वो वार्ता के सेतु पर सवार होकर इस मसले को सुलझाने का ढोंग रच रहा है तो वहीं दूसरी तरफ एलएसी पर उसके सैनिकों की तरफ से की गई कार्रवाई उसके असल रूख का पटाक्षेप कर रही है। उधर, संसद के मानसून सत्र में जिस तरह से हुंकार भरते हुए केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ड्रैगन को चेताया है। उससे यह साफ जाहिर हो रहा है कि उसकी करनी और कथनी में कुछ फर्क है। ये भी पढ़े :राजनाथ सिंह के बयान से तिलमिलाया ड्रैगन, अब दे रहा भारत को अंजाम भुगतने की धमकी 

उधर, अब जब से ड्रैगन ने भारत को सर्दियों में अंजाम भुगतने की धमकी दी है, तो अब भारत अपनी तरफ से ड्रैगन को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए अपनी तैयारियां मुकम्मल कर लेना चाहता है। खबर है कि अब कुछ दिनों में भारतीय सीमा पर 50 हजार सैनिकों को तैनात किया जाएगा। भारत अपनी पूरी तैयारियां पुख्ता कर लेना चाहता है, ताकि ड्रैगन को मुंहतोड़ जवाब दिया जा सके। भारत अपने सैनिकों को लॉजिस्टिक्स मदद करने जा रहा है। सैनिकों के लिए सर्दियों के कपड़े, राशन, आर्कटिक टेंट से लेकर पोर्टेबल हीटर तक पहुंचाने के लिए सेना के जहाज के साथ हेलीकॉप्टर करीब-करीब हर दिन लद्दाख के लिए उड़ान भर रहे हैं। अभी हाल ही में 15 सितंबर को एक तस्वीर सामने आई थी, जिसमें देखा जा रहा था कि कैसे ऊंचाई पर तैनात सैनिकों को जरूरी समान मुहैया कराए जा रहे हैं, ताकि चीन को मुंहतोड़ जवाब मिल सके।

वहीं, संसद के मानसून सत्र के दौरान भी केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी संसद भवन में हुंकार भरते हुए ड्रैगन को चेता दिया था कि हमारे सैनिक चीन को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए तैयार हैं, जिससे खफा होते हुए अब ड्रैगन ने अपनी बौखलाहट की नुमाइश अपनी सरकारी अखबार गलोब्ल टाइम्स में की है। इतना ही नहीं, उसने तो भारत को सर्दियों में अंजाम तक भुगतने की धमकी दे दी है। ये भी पढ़े :भारत चीन सीमा विवाद के बीच अमेरिका का बड़ा फैसला, अब यूरोप से वापस बुला रहा है अपनी सेना