कुलभूषण के अलावा पाकिस्तान की जेलों में बंद हैं 272 भारतीय कैदी, मोदी राज में इतने कैदियों की हुई घर वापसी

कुलभूषण जाधव की फांसी की सजा पर रोक लगा दी गई है। ये फैसला नीदरलैंड के हैग स्थित इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस ने दिया है। ये फैसला देते हुए आईसीजे के 16 जजों में से 15 जज जाधव की फांसी के खिलाफ थे। महज 1 ही जज जो पाकिस्तानी था, उसी ने कोर्ट के इस फैसले पर आपत्ति जताई थी। वहीं, कुलभूषण जाधव की फांसी पर लगी रोक को भारत की बड़ी कूटनीतिक जीत के तौर पर जा रहा है। ये भी पढ़े :कुलभूषण जाधव मामले पर पीएम मोदी ने कही ये बात, तो प्रियंका गांधी ने दिया ऐसा जवाब

बता दें कि इससे पहले मई 2017 में आईसीजे ने कुलभूषण जाधव की फांसी पर रोक लगा दी थी। वहीं, तकरीबन 22 महीनों के बाद हुई सुनवाई में कोर्ट ने कुलभूषण की फांसी पर रोक लगा दी है। इसे भारत की दोहरी कूटनीतिक जीत के तौर पर देखा जा रहा है। बता दें कि कोर्ट के इस फैसले के बाद भारत को काउंसलर एक्सेस का फायदा भी मिलेगा। कोर्ट ने अपने फैसले में पाकिस्तान को निर्देश देते हुए ये भी कहा कि वे अपने दिए हुए फैसले की समीक्षा करे। वहीं, अब इस फैसले के बाद कई परते भी खुलती हुई नजर आ रही है। बताया जा रहा है कि पाकिस्तान में तकरीबन 272 भारतीय कैदी दयनीय अवस्था में मौजूद हैं, जिसमें 64 सिविलियन और 209 मछुआरे हैं। पाकिस्तान ने इस बात की पुष्टि खद की थी। उसने खुद इस बात को स्वीकारा था कि उसकी जेल में कुल 272 भारतीय कैदी हैं।

पाकिस्तान का भयावह सच.. सरबजीत मामले के बाद आया था
वहीं, पाकिस्तान की ऐसी भयावह तस्वीर का खुलासा सरबजीत के मामले ने किया था। बता दें कि 1990 के दशक में सरबजीत अनजाने से पाकिस्तान चले गए थे, तब पाकिस्तान ने सरबजीत पर जासूसी का आरोप लगाते हुए उसे जेल में बंद कर दिया था। हालांकि, सरबजीत के खिलाफ पाकिस्तान के पास कोई ठोस सुबूत भी नहीं था। वहीं, लगातार पाकिस्तान सरबजीत की दया याचिका को खारिज करता रहा। बावजूद इसके सरबजीत की एक नहीं सुनी गई। आखिर पाकिस्तान के लखपत जेल में साल 2013 में सरबजीत की हत्या कर दी गई।

मोदी राज में 2110 कैदियों की हुई रिहाई
इसके साथ ही जैसे ही साल 2014 में केंद्र में मोदी सरकार आई तो उन्होंने अपने कूटनीति के दम पर 2110 कैदियों को रिहा किया। वहीं, कई मर्तबा तत्कालीन विदेश मंत्री सुसमा स्वराज भी पाकिस्तान के समक्ष  भारतीय कैदियों के मसले को पुरजोर तरीके से उठा चुकी है। वहीं, इस साल 11 जुलाई तक 355 भारतीय मछुआरों और 7 सिविलियनों को पाकिस्तान रिहा कर चुका है। ये भी पढ़े :कुलभूषण यादव को लेकर संसद में विदेश मंत्री ने दी खुशखबरी, सदन में बजी तालियां 

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

1,092,598FansLike
5,000FollowersFollow
5,023SubscribersSubscribe

Latest Articles