Categories
दिल्ली

कर्मवीर चक्र अवार्ड एवं ग्लोबल यंग लीडर्स फ़ेलोशिप से नवाज़े गए शहर के वेदांत शुक्ल

दिल्ली स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स, दिल्ली विश्वविद्यालय से परास्नातक कर रहे एवं संत ज़ेवियर महाविद्यालय, मुंबई से अर्थशास्त्र में स्नातक, शहर के वेदांत शुक्ल को प्रतिष्ठित कर्मवीर चक्र अवार्ड एवं रेक्स ग्लोबल युथ फ़ेलोशिप से वर्चुअल रेक्स कॉन्क्लेव में सम्मानित किया गया।

अवार्ड के वारे में

कर्मवीर चक्र पुरस्कार एक वैश्विक नागरिक सम्मान है, जिसे संयुक्त राष्ट्र और iCONGO नाम की संस्था द्वारा दिया जाता है। यह पुरस्कार भारत के ११ वे राष्ट्रपति डॉ एपीजे अब्दुल कलाम को श्रद्धांजलि है, जिन्होंने पुरस्कारों के लिए राजदूत बनने और अंतर्राष्ट्रीय स्वयंसेवक ओलंपियाड के लिए प्रस्ताव दिया था।

पुरस्कार हासिल करना सम्मान की बात

बता दें, वर्ष 2019 में वेदांत ने संत ज़ेवियर महाविद्यालय, मुंबई की कमर्शियम: द कॉमर्स सोसाइटी की स्थापना करी जिसका मूल उद्द्येश कॉमर्स से सम्बंधित विषयों और ज्ञान के प्रसार को बढ़ावा देना था। सोसाइटी के पहले अध्यक्ष के रूप में उन्होंने उत्कृष्ट भूमिका निभाई, उनके नेतृत्व में ‘थिंकबिज़्ज़’ नामक ब्लॉग की शुरुआत करी गयी एवं कई राज्य व् राष्ट्र स्तरीय सेमिनार्स, वेबिनार्स एवं वर्कशॉप्स का आयोजन भी किया गया। वर्ष 2020 में वेदांत ने कॉलेज के अर्थशास्त्र विभाग के आधिकारिक समाचार पत्र के मुख्य सम्पादक के रूप में भी अपना बहुमूल्य योगदान दिया। वेदांत ने सोशल इन्वॉल्वमेंट प्रोग्राम के अंतर्गत कई गैर सरकारी संस्थाओं के साथ मिलकर वंचित पृष्टभूमि एवं दिव्यांग छात्र -छात्राओं के शिक्षण एवं शशक्तिकरण के लिए कार्य किया। कोविड -19 महामारी के दौरान भी वेदांत ने चेंज लीडर के रूप में वर्ल्ड युथ कॉउन्सिल की ‘टीच फ्रॉम होम’ मुहीम का हिस्सा बनकर स्वैच्छिक शिक्षण सेवाएं प्रदान करीं।

इसके अतिरिक्त वेदांत की अर्थशास्त्र अनुसंधान के छेत्र में भी गहरी रूचि है और इसी वर्ष उन्होंने अपने सह लेखक के साथ मिलकर अपना शोध पत्र जिसका शीर्षक था ‘गोइंग बियॉन्ड: इकोनॉमिक्स ऑफ़ स्पेस कॉलोनीज’ को राष्ट्रीय अर्थशास्त्र संगोष्ठी में प्रस्तुत किया। इससे पूर्व भी उनके कई शोध लेख एवं पत्र प्रतिष्ठित पत्रिकाओं व् संगोष्ठियों में प्रस्तुत किये गए हैं। वेदांत भविष्य में एक अर्थशास्त्री के रूप में देश के प्रति योगदान देने की इच्छा रखते हैं और उनका मानना है कि समावेशी और गुणवत्तापूर्ण शिक्षा गतिशील एवं न्यायसंगत समाजों की नींव है।