Friday, December 3, 2021

जहरीली हवाओं से घुटने लगा DELHI का दम, बच्चे, बुजुर्ग और गर्भवती महिलाओं के लिए जारी हुए ये निर्देश

Must read

- Advertisement -

दिल्ली। दिल्ली-एनसीआर की हवााओं की हालत लगातार बिगड़ती जा रही है। वायु प्रदूषण का स्तर गंभीर मानक को पार कर गया है। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) ने बच्चे, बुजुर्ग और गर्भवती महिलाओं को घर से बाहर नहीं निकलने की सलाह दी है। शनिवार को दिल्ली की हवा का औसत एक्यूआई एयर क्वालिटी इंडेक्स 499 दर्ज किया गया, जो खतनाक श्रेणी में है। दिल्ली के ऐतिहासिक स्मारक लाल किला और जामा मस्जिद धुंध से सराबोर हो गए हैं। शनिवार को और हवा और जहरीली हो गई। हवाओं की स्थिति में सुधार के कोई आसार नहीं दिख रहे हैं। सीपीसीबी ने प्रदूषण से बचने के उपायों को लेकर जानकारी भी साझा की। जिन लोगों को खांसने, नाक बहने या फिर छाती में दर्द-भारीपन इत्यादि की शिकायत हो रही है तो उन्हें तत्काल चिकित्सीय परामर्श के साथ घर में ही आराम करने की सलाह दी है।

- Advertisement -

सीपीसीबी ने सलाह दी है कि जिन लोगों को आवश्यक कार्य से बाहर जाना पड़ रहा है, वापस घर पहुंचने के बाद तत्काल चेहरे को दो बार साफ पानी और साबुन से साफ करें। इसके बाद गुनगुने पानी का ही सेवन करें। हवाओं में इतना अधिक भारी कण हैं कि लोगांे के लिए सांस लेना मुश्किल हो गया है। सांस लेने में कठिनाई होने पर बगैर किसी देर किए डॉक्टर से परामर्श करें।

वर्क फ्रॉम होम को दें बढ़ावा, 18 तक नहीं मिलेगी राहत

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड का आकलन है कि 18 नवंबर तक हालात सुधरने के आसार नहीं है। मौसमी दशाएं इसी तरह बनी रहेंगी। रात में हवाएं पूरी शांत रहेंगी। सरकारी और निजी दफ्तरों को सीपीसीबी की सलाह है कि 30 फीसदी तक वाहनों की इस्तेमाल कम करें। वर्क फ्रॉम होम के साथ कार पूलिंग को भी बढ़ावा दें। लोगों को घरों में रहने के लिए कहा जा रहा है। चांदनी चैक शुक्रवार को प्रदूषित इलाकों की सूची में शीर्ष पर रहा। इस इलाके का वायु गुणवत्ता सूचकांक 491 रिकार्ड किया गया, जबकि 490 अंकों के साथ मंदिर मार्ग दूसरा नंबर प्रदूषित इलाका बना। प्रदूषण की चादर दिल्ली में इस कदर भारी पड़ी कि हवा की गुणवत्ता मापने वाले सभी 36 मॉनीटरिंग स्टेशन का सूचकांक 450 से ऊपर पहुंच गया। हैरानी की बात यह कि दिन भर में कई बार इन स्टेशनों पर पीएम10 व पीएम2.5 का स्तर 500 से ऊपर भी पहुंच गया था।

टॉप पांच प्रदूषित इलाके

चांदनी चैक: 491
मंदिर मार्ग: 490
जनकुपरी: 489
आईटीओ: 488
पटपड़गंज: 485

यह भी पढ़ेंः-फिरोजाबाद, आगरा और वृंदावन की हवा हुई जहरीली, देश का सर्वाधिक प्रदूषित शहर बना सुहाग नगरी

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article