खुल गई ड्रैगन की पोल, चीनी वैज्ञानिक ने कहा, ‘मेरे पास सबूत हैं, यह वायरस मानव निर्मित नहीं बल्कि’..

2781

चाहे वो अमेरिका हो या भारत..भारत हो या ऑस्ट्रेलिया..ऑस्ट्रेलिया हो या जापान..सभी ने एकजुट होकर कोरोना वायरस को लेकर ड्रैगन के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है। लेकिन ड्रैगन है कि मानने को तैयार ही नहीं। इस पर शुरूआत से ही संदेह जताए जाते रहे हैं कि कोरोना वायरस प्रकृति की देन नहीं अपितु यह मानव निर्मित है। जिसे समस्त विश्व को तबाह करने के ध्येय के साथ तैयार किया गया है। अमेरिका सरीखे अन्य मुल्कों ने कोरोना वायरस को चीन की साजिश करार दिया है। लेकिन चीन का लगातार दो टूक यही कहना है कि यह उसकी साजिश नहीं है, लिहाजा अपना बचाव करने के लिए वो समय-समय पर अलग-अलग थ्योरी लाता रहा है। लेकिन अब जब बात हद से ज्यादा बढ़ गई है तो एक चीनी वैज्ञानिक ने ही उसकी पोल पोल खोलकर रख दी है।

यहां पर हम आपको बताते चले कि यह चीनी महिला वीरोलॉजिस्ट लि-मेंग यान ने कहा कि मेरे पास बकायदा इस बात को साबित करने के सुबूत हैं। लि मैग से जब यह सवाल किया गया कि आखिर आप यह कैसे कह सकतीं हैं कि कोरोना वायरस एक मानव निर्मित है तो इस पर उस महिला वैज्ञानिक ने कहा कि मेरे पास इसके बकायदा सुबूत है और मैं इसे उचित समय पर आने पर साबित करूंगी। इस महिला वैज्ञानिक ने तो चीन की पूरी पोल खोलते हुए कहा कि कोरोना वायरस को लेकर ऐसा बहुत कुछ है, जो चीन छुपाने का प्रयास कर रहा है।  इस वायरस को तैयार किया गया है। यह कोई पकृति की देन नहीं है।

चीनी महिला वैज्ञानिक ने कहा कि कहीं चीन की पोल खुल न जाए इसलिए ड्रैगन ने उसे देश से निकाल दिया और उसका सारा डाटा कब्जे में कर लिया। वैज्ञानिक ने कहा कि यह वायरस मीट मार्केट से नहीं आया है। क्योंकि मीट मार्केट एक स्मोक स्कीन है। महिला ने कहा कि इस वायरस का जीनोम अनुक्रम एक मानव फिंगर प्रिंट की तरह है। इसी आधार पर वह साबित कर देगी कि यह मानव निर्मित है। वैज्ञानिक ने कहा कि आपने भले ही जीव विज्ञान न पढ़ा हो, मगर आप भी इसे बहुत ही आसानी से समझ लेंगे।

महिला वैज्ञानिक ने कहा कि चीनी सरकार मुझे लगातार झूठा साबित करने का प्रयास कर रही है। मेरे खिलाफ तरह-तरह के हथकंडे अपना रही है। चूंकि उसे इस बात का डर है कि कहीं मैं उसकी पोल पूरी दुनिया के सामने खोल कर तो नहीं रख दूंगी, इसलिए अब उसने मेरी पूरी जानकारी हटा दी है। मुझे देश छोड़ने की धमकी दी गई और अब  मैं अमेरिका में रह रहीं हूं। सरकार मुझे झूठा साबित करने के लिए तरह-तरह के हथकंडे अपना रही है, लेकिन मैं चीन के हर एक झूठा का पर्दाफाश करके रहूंगी। मैं इस बात को सुबूतों के आधार पर साबित करके रहूंगी कि कोरोना वायरस मानव निर्मित है न की पकृति की देन। ये भी पढ़े :नहीं मिला कोई जवाब..LAC पर है भंयकर तनाव..जानें किन मसलों पर भारत और चीन के बीच हुई वार्ता