लद्दाख के बाद अब यहां ठिकाना बना रहा चीन, PLA गतिविधियों को देख भारतीय सेना अलर्ट

24

लद्दाख सीमा पर पिछले छह माह से कब्जा करने की फिराक में ड्रैगन अब भारत के अरुणाचल प्रदेश की सीमा पर नजरें गड़ा रहा है। सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के अनुसार चीन अरुणाचल प्रदेश में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर अपने सैनिकों के लिए नया ठिकाना बनाने की तैयारी कर रहा है। बता दें कि हाल ही में भारतीय सेना ने चीनी सेना को रेजांग ला से बुरी तरह खदेड़कर वापस भेजा था, लगता है चीनी सेना ने उससे कोई सबक नहीं लिया इसलिए ऐसी कायरता दोबारा दोहरा रहा है। हालांकि भारतीय सेना सीमावर्ती इलाकों में लगातार ऑपरेशन्स कर रही हैं। सेना LAC पार के इलाकों में तेजी से गश्त को बढ़ा रही है। ताकि चीन की किसी भी घुसपैठ को कामयाब होने से पहले रोक दिया जाए।

दरअसल लद्दाख सीमा पर अब तक चीन कई घुसपैठ को अंजाम दे चुका है, उसका खामियाजा भी उसे ही भुगतना पड़ा। पिछले माह हुए गलवान घाटी हिंसा में चीन के 40 से भी ज्यादा जवान भारतीय सेना के हाथों मारे गए थे। हालांकि इस हिंसक झड़प में भारत के 20 जवान भी वीरगति को प्राप्त हुए। इस हिंसा के बाद दोनों देशों में तनाव चरम पर पहुंच गया

है। कई दफा शांति वार्ता का प्रस्ताव भी भेजा गया लेकिन चीन हर बार मक्कारी कर जाता है। चीन की इस मक्कारी को देखते हुए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी सेना को खुली छूट दे दी है। अगर ड्रैगन की तरफ से जरा सी भी हरकत होती है, तो भारतीय सेना माकूल जवाब देने का दम रखती है।

हालांकि ताजा जानकारी के अनुसार भारतीय सेना ने चीनी सीमा में पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) के मूवमेंट को अरुणाचल प्रदेश की सीमा पर नोटिस किया है। रिपोर्ट के मुताबकि, अरुणाचल प्रदेश के अस्फिला, टूटिंग, चांग ज और फिशटेल-2 के विपरीत चीनी क्षेत्र में चीनी गतिविधियां देखी गई हैं। ये इलाके भारतीय सीमा से मात्र 20 किलोमीटर की दूरी पर हैं।

सरकार के वरिष्ठ सूत्रों ने निजी चैनल को जानकारी देते हुए कहा आशंका है कि चीनी सेना भारतीय क्षेत्र में घुसपैठ की फिराक में है। इसलिए चीनी सेना इन इलाकों में एक्टिव नजर आई है। हालांकि इससे पहले कभी चीनी सेना को इन इलाकों में नहीं देखा गया था, इससे ड्रैगन की मंशा को समझा जा सकता है।

बताया जा रहा है कि चीन किसी शांत और बिना आबादी वाली जगह को अपने कब्जे में लेने की कोशिश कर रहा है. चीनी सैनिकों की ओर से घुसपैठ की आशंका को देखते हुए भारतीय सेना अलर्ट पर है और यहां सैनिकों की तैनाती भी बढ़ा दी गई है।

ये भी पढ़ें:-खुलासा! गलवान हिंसा का जिम्मेदार ड्रैगन, चीनी राष्ट्रपति कराते हैं घुसपैठ