बड़ी खबर: भारतीय कूटनीति के आगे झुका ड्रैगन, अब लौटा रहा है हमारे 5 नागरिक 

91

अपने विस्तारवादी नीतियों के सहारे समस्त विश्व को अपना जागिर समझने की हिमाकत करने वाले ड्रैगन को भारत की कूटनीति के आगे झुकने के लिए इस कदर बाध्य होना पड़ा कि अब उसे भारत के पांच नागरिकों को लौटाना पड़ रहा है। यह पांचों नागरिक अरूणाचल प्रदेश के रहने वाले हैं। बीते दिनों चीनी सेना ने इन्हें अगवा कर लिया था, जिसके बाद इनके परिजनों ने भारत सरकार से इनके रिहाई की गुहार लगाई। भारत सरकार के कूटनीति चालों की तस्दीक होते हुए अब हम तब देख रहे हैं, जब हमारे पांचों नागरिकों को ड्रैगन लौटा रहा है। इस बात की जानकारी खुद केंद्रीय राज्य किरण रिजिजु ने दी है।

कुछ ही पलों का इंतजार है। इसके बाद यह पांचों नागरिक भारत की समरजीं पर अपने कदम रखेंगे। इनके परिजन सहित अन्य लोगों को इनके आने का बेसब्री से इंतजार है। अरूणाचल प्रदेश सहित पूरे देश का बच्चा-बच्चा इन पांचों नगारिकों की बाट जोह रहा है। इन पांचों की पहचान  तोच सिंगकम, प्रसात रिगलिंग, दोंगतू इबिया, तनू बाकर और नागरु दिरी के तौर पर हुई है। यह पांचों तानिग समुदाय से ताल्लुक रखते हैं। खबर है कि चीनी सेना द्वारा अगवा किए गए इन पांचों को अब रिहा कर दिया गया है। यह सभी भारत के लिए रवाना हो चुके हैं। बस अब चंद लम्हों का इंतजार है। इसके बाद यह पांचों भारत की सरमजीं पर दस्तक दे चुके होंगे।

यहां पर हम आपको बताते चले कि यह पूरी घटना शुक्रवार दोपहर की है, जब इन लोगों को चीनी सेना अगवा करके ले गई थी। इस दौरान दो और लोगों को पकड़ लिया गया था, लेकिन वो बाद में वहां से भागने में कामयाब रहे थे और यही दो वो शख्स थे, जिन्होंने इस बात की जानकारी दी कि हमारे पांच भाइयों को चीनी सेना अगवा कर ले गई है, बाद में इसकी सूचना आलाकमान को दी गई और अब इस पूरी कवायद के तहत इन नागरिकों को रिहा किया जा रहा है। ध्यान रहे कि चीन लगातार इस बात का दावा करता आ रहा है कि अरूणाचल प्रदेश उसका हिस्सा है। ये भी पढ़े :भारत चीन सीमा से बड़ी खबरः घुसपैठ की साजिश नाकाम, फिर हुई झड़प