सीईओ अडार पूनावाला ने कहा भारत में इसलिए बनी रहेगी कोरोना वैक्सीन की किल्लत

दिल्ली। कोरोना के कोहराम पर सिर्फ वैक्सीन से काबू पाया जा सकता है। वैक्सीन आने में, लोगों को लगने में जितनी देर होगी। कोरोना के खिलाफ लड़ाई उतनी ही कमजोर होगी।  सीरम इंस्टीट्यूट के सीईओ अडार पूनावाला ने कहा कि भारत को अगले कुछ महीनों तक वैक्सीन की कमी का सामना करना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि 10 करोड़ वैक्सीन निर्माण की क्षमता जुलाई से पहले नहीं बढ़ने वाली है। आपको बता दें कि अभी 6 से 7 करोड़ वैक्सीन का उत्पादन हो रहा है। उन्होंने कहा कि ऑर्डर की कमी के कारण पहले क्षमता का विस्तार नहीं किया था। इस तरह देखा जाये तो उन्होंने आर्डर कम होने को ही दोषी ठहरा दिया है। इस कारण से वैक्सीन की कमी का संकट जुलाई के तक जारी रहेगी। उन्होंने कहा कि कोई ऑर्डर नहीं था। हमें नहीं लगता था कि हमें एक साल में 100 करोड़ से अधिक खुराक बनाने की जरूरत है। अडार पूनावाला ने कहा कि अधिकारियों को जनवरी में दूसरी लहर की उम्मीद नहीं थी। हर कोई वास्तव में महसूस कर रहा था कि भारत में महामारी खत्म होने के कगार पर है। पिछले महीने केंद्र सरकार ने क्षमता विस्तार की सुविधा के लिए सीरम इंस्टीट्यूट को 3,000 करोड़ रुपये अग्रिम दिये। भारत में शुक्रवार को पहली बार नए मामले 400,000 को पार कर गए।

यह भी पढ़ेंः-कोरोना का कहर : शरीर में कैसे बढ़ाएं Oxygen Level, इन चीजों का करें भरपूर सेवन

ज्ञात हो कि दुनिया की सबसे बड़ी वैक्सीन बनाने वाली कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका वैक्सीन बनाती है। इस कम्पनी के वैक्सीन को स्थानीय रूप से कोविशिल्ड ब्रांड नाम से वितरित किया जाता है। केंद्र सरकार ने अब तक इसका पूरा उत्पादन खरीदा है लेकिन इस महीने की शुरुआत में राज्यों और निजी अस्पतालों को भी वैक्सीन खरीदने की अनुमति दी गई है। भारत सरकार ने 1 मई से 18 साल से अधिक उम्र के सभी लोगों के लिए टीकाकरण अभियान शुरू किया है। टीके की कमी के कारण यह अभियान चल नहीं सका है। भारत में अब तक करीब 16 करोड़ लोगों को वैक्सीन लगाई गई है। 16 करोड़ लोगों का लगी वैक्सीन देश की आबादी का सिर्फ 12 प्रतिशत है। हालांकि दूसरी डोज लेने वालों की संख्या काफी कम है। यह सिर्फ दो प्रतिशत है।

पूनावाला ने कहा कि राजनेताओं और आलोचकों ने टीके की कमी के लिए एसआईआई को दोषी ठहराया है लेकिन वैक्सीन नीति सरकार द्वारा बनाई गई थी। भारत में टीकाकरण अभियान की शुरुआत 16 जनवरी को हुई थी। केंद्र सरकार ने शुरू में सीरम से 2.1 करोड़ टीके मंगवाए थे। मार्च में जब मामले बढ़ने लगे तो अतिरिक्त 11 करोड़ डोज का ऑर्डर दिया गया था। विस्तारित टीकाकरण अभियान के लिए राज्यों और निजी अस्पतालों से अधिक कीमत वसूलने के लिए भी कंपनी की आलोचना की गई है। सीरम ने बाद में राज्य सरकारों द्वारा भुगतान की जाने वाली कीमत को 400 रुपये से घटाकर 300 रुपये कर दिया था।

यह भी पढ़ेंः-कोरोना के कोहराम का वीभत्स चेहरा : होम आइसोलेशन में पति और बेटे के शव के साथ चार दिनों से थी यह दिव्यांग महिला

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

1,092,598FansLike
5,000FollowersFollow
5,023SubscribersSubscribe

Latest Articles