Categories
देश

नहीं रहे सीडीएस बिपिन रावत, हेलिकॉप्टर क्रैश में 13 लोगों की मौत

दिल्ली। हेलिकॉप्टर क्रैश में सीडीएस बिपिन रावत का निधन हो गया है। Mi-17V5 हेलिकॉप्टर में 14 लोग सवार थे। सीडीएस बिपीन रावत की पत्नी मधुलिका रावत भी हेलिकॉप्टर में सवार थीं। हादसे पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, पीएम मोदी, गृहमंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आदि नेताओं ने दुःख जताया है। हेलिकॉप्टर क्रैश होने का दर्दनाक हादसा तमिलनाडु के कुन्नूर के पास बुधवार दोपहर को हुआ था। हेलिकॉप्टर दुर्घटना में मृत अन्य लोगों के साथ सीडीएस जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी का पार्थिव शरीर गुरुवार शाम तक दिल्ली पहुंचने की उम्मीद है। कुन्नूर में क्रैश हुए भारतीय वायुसेना हेलिकॉप्टर में बिपिन रावत और उनकी पत्नी मधुलिका रावत ने पायलट ग्रुप-कैप्टन पीएस चैहान और स्क्वाड्रन लीडर कुलदीप के साथ उड़ान भरी थी। इस दौरान उनके साथ एक ब्रिगेडियर रैंक का अधिकारी समेत 14 लोग सवार थे। इस हादसे में 13 लोगों की मौत हो चुकी है।

इस हादसे पर दुख जताते हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी मधुलिका जी के असामयिक निधन से स्तब्ध और व्यथित हूं। देश ने अपने सबसे बहादुर सपूतों में से एक को खो दिया है। मातृभूमि के लिए उनकी चार दशकों की निस्वार्थ सेवा असाधारण वीरता और वीरता से चिह्नित थी। उनके परिवार के प्रति मेरी संवेदनाएं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुख व्यक्त करते हुए कहा कि मैं तमिलनाडु में हेलिकॉप्टर दुर्घटना से बहुत दुखी हूं, जिसमें हमने जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी और सशस्त्र बलों के अन्य कर्मियों को खो दिया है। उन्होंने पूरी लगन से भारत की सेवा की। मेरी संवेदनाएं शोक संतप्त परिवारों के साथ हैं।

घटना पर गृहमंत्री अमित शाह ने भी दुख जताते हुए कहा कि देश के लिए एक बहुत ही दुखद दिन है… क्योंकि हमने अपने सीडीएस जनरल बिपिन रावत जी को एक बहुत ही दुखद दुर्घटना में खो दिया है। वह सबसे बहादुर सैनिकों में से एक थे, जिन्होंने अत्यंत भक्ति के साथ मातृभूमि की सेवा की है। उनके अनुकरणीय योगदान और प्रतिबद्धता को शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता है। मुझे गहरा दुख हुआ है।

 

रक्षा मंत्री ने ट्वीट करते हुए लिखा है कि तमिलनाडु में आज एक बेहद दुर्भाग्यपूर्ण हेलीकॉप्टर दुर्घटना में चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी और 11 अन्य सशस्त्र बलों के जवानों के आकस्मिक निधन से गहरा दुख हुआ। उनका असामयिक निधन हमारे सशस्त्र बलों और देश के लिए एक अपूरणीय क्षति है।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने घटना पर दुख जताते हुए लिखा कि मैं जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी के परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूं। इस कठिन समय में हमारी संवेदनाएं उनके परिवार के साथ हैं। अपनी जान गंवाने वाले अन्य सभी लोगों के प्रति भी हार्दिक संवेदना। इस दुख की घड़ी में भारत एक साथ खड़ा है। बीजेपी नेशनल अध्यक्ष जेपी नड्डा ने भी हादसे पर दुख जाहिर किया है। दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल ने दुख जताते हुए ट्वीट किया है।

ज्ञात हो कि ये हेलिकॉप्टर क्रैश तमिलनाडु के कुन्नूर के पास बुधवार दोपहर को हुआ था. जिस हेलिकॉप्टर के साथ ये हादसा हुआ वो भारतीय वायुसेना का एमआई Mi-17V5 था । डबल इंजन वाला यह हेलिकॉप्टर बेहद सुरक्षित माना जाता है। इसी हेलिकॉप्टर में चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत सवार थे जिनकी इस हादसे में दर्दनाक मौत हो गई है।

वायुसेना का काफी ताकतवर हेलिकॉप्टर है Mi-17V5

दुर्घटनाग्रस्त हेलिकॉप्टर  Mi-17V5 भारतीय वायुसेना का काफी ताकतवर हेलिकॉप्टर है। हेलिकॉप्टर Mi-17V5 आधुनिक तकनीकों से लैस होता है। यह हेलिकॉप्टर वायु सेना के कई महत्वपूर्ण अभियानों का हिस्सा भी रहा है। इस हेलिकॉप्टर की तैनाती सेना और आर्म्स ट्रासपोर्ट में भी की जा सकती है। सर्च ऑपरेशनों, पट्रोलिंग, राहत एवं बचाव अभियानों में भी इसका इस्तेमाल किया जाता है। Mi-17V5 हेलिकॉप्टर की अधिकतम रफ्तार 250 किलोमीटर घंटा है। यह हेलिकॉप्टर 6000 मीटर की अधिकतम ऊंचाई तक उड़ान भरने में सक्षम है। एक बार ईंधन भरने के बाद यह 580 किलोमीटर की दूरी तय करता है। दो सहायक ईंधन टैंक भरने के बाद यह 1065 किमी की दूरी तय कर सकता है।

सर्जिकल स्ट्राइक में भी हुआ इस्तेमाल

2008 में हुए मुंबई आतंकी हमले के दौरान एनएसजी कमांडो इसी हेलिकॉप्टर्स से कोलाबा में आतंकियों से मुकाबला करने उतरे थे। सितंबर 2016 में जम्मू-कश्मीर में नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तानी लॉन्च पैड को तबाह करने के लिए की गई सर्जिकल स्ट्राइक में भी इस हेलिकॉप्टर का इस्तेमाल किया गया था। भारत के पास वर्तमान में 150 से ज्यादाMi-17V5 हेलिकॉप्टर्स हैं। इनमें से सबसे आखिरी हेलिकॉप्टर जनवरी 2016 में रूस ने भारत को सौंपा था।

यह भी पढ़ेंः-आग का गोला बने हेलिकॉप्टर से कुदे थे तीन लोग, कुन्नूर के प्रत्यक्षदर्शी ने बताया आंखों देखी