बिहार विधानसभा चुनाव: खुद के ही उम्र से बेखबर हैं ये प्रत्याशी, 5 साल में किसी की उम्र बढ़ी 8 साल, तो किसी के घटे 3 साल

71
bihar assembly election 2020

बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election) की तैयारियां जोरों पर हैं। इसी महीने 28 अक्टूबर से बिहार विधानसभा चुनाव शुरू हो रहे हैं। इस बार तीन चरणों में चुनाव होने हैं। पहले चरण का चुनाव 28 अक्टूबर, दूसरे चरण का 3 नवंबर और तीसरे चरण का चुनाव 7 नवंबर को होना है। इसका रिजल्ट तीन दिन के अंदर यानि 10 नवंबर को आ जाएगा और 29 नवंबर तक बिहार में सरकार बन जाएगी। विधानसभा चुनाव के लिए सभी प्रत्याशी नामांकन करा रहे हैं। जारी नामांकन के बीच प्रत्याशियों के एफिडेविट से चौंकाने वाली बात सामने आई है। दरअसल, कई प्रत्याशियों ने अपने उम्र को लेकर घोटाला किया है। आइए बताते हैं ऐसे प्रत्याशियों के बारे में..

यह भी पढ़े- मंदिर में शादी करने पहुंच गए थे जीतेंद्र-हेमा मालिनी, सिर्फ एक फोन कॉल से टूट गया था रिश्ता

जय कुमार सिंह (Jai Kumar Singh)
जय कुमार नीतीश सरकार में उद्योग मंत्री के पद पर हैं। इसके अलावा वह दिनारा विधानसभा से विधायक भी हैं। साल 2015 में जब उन्होंने चुनाव लड़ा था, उस वक्त उन्होंने एफिडेविट में 46 साल उम्र बताई थी, वहीं जब उन्होंने 2020 के चुनाव के लिए नामांकन पत्र दाखिल किया तो उन्होंने अपनी उम्र 56 साल बताई। जबकि जन्मतिथि के मुताबिकक, उनकी आयु 57 साल 7 महीने है। जय कुमार ने 2015 में भी कम उम्र लिखवाया था और 2020 के चुनाव में भी उन्होंने गलत उम्र मेंशन किया।

सरोज यादव (Saroj Yadav)
सरोज यादव राजद से बड़हरा के विधायक हैं। सरोज यादव ने तो अपनी उम्र में ऐसा घोटाला कर दिया कि वक्त के साथ साथ उनकी उम्र बढ़ने के बजाय घट रही है। साल 2015 के चुनाव में उन्होंने अपनी आयु 33 साल बताई थी, वहीं 2020 में उन्होंने अपनी आयु 30 साल बताई है। मतलब वह इन पांच सालों में तीन साल छोटे हो गए हैं। ये वही विधायक हैं जिनका कुछ समय पहले ऑडियो वायरल हुआ था। ऑडियो में ये जमकर गाली गलौज करते सुनाई दिए थे।

सत्यदेव सिंह (Satyadev Singh)
जेडीयू के कुर्था विधानसभा के विधायक हैं। अन्य विधायकों में ये भी अपने उम्र को लेकर काफी कनफ्यूज हैं। इन्होंने एक दो साल नहीं बल्कि 14 साल कम उम्र बताई। उन्होंने 2020 एफिडेविट में 56 साल उम्र बतायी है। जबकि जन्मतिथि के मुताबिक, वह 20 जून 2020 के जन्में हैं यानि की वह अब 70 साल के हो गए हैं।

रामानंद मंडल (Ramanand Mandal)
रामानंद जदयू से सूर्यगढ़ा के उम्मीदवार हैं। पिछले 5 साल में 8 साल उम्र बढ़ गई है। इन विधायक में अलग बात ये है कि इन्होंने अपनी उम्र कम करने की बजाय 3 साल बढ़ा दी है। 2015 में उनकी उम्र 47 साल थी, 2020 में एफिडेविट में 55 साल उम्र बतायी है।

ज्ञानेंद्र सिंह ज्ञानू (Gyanendra Singh Gyanu)
ज्ञानेंद्र बाढ़ से बीजेपी के विधायक हैं। ये भी पिछले पांच साल में 10 साल आयु बढ़ गई। 2015 के एफिडेविट में 51 साल उम्र लिखी थी, लेकिन 2020 में अपनी उम्र 61 साल बतायी है।

यह भी पढ़े- मनीष शुक्ला हत्याकांड: राजनीतिक दल के कहने पर बिहार से करवाई गई थी हत्या! 2 और BJP नेता थे निशाने पर