महागठबंधन में अटका सियासी पेंच! कांग्रेस के साथ लालू ने चला दांव, इन पार्टियों को नहीं दिया भाव

243

देशभर में भले ही कोरोना काल का संकट हो, लेकिन चुनावी बिसात बिछना अभी से ही शुरू हो गई है। दरअसल इस साल बिहार विधानसभा में होने वाले चुनावों को लेकर राजनीतिक पार्टियों में सियासी तेज हो गई है। वहीं ऐसा कहा जा रहा है कि चुनाव आयोग बिहार विधानसभा चुनाव की तारीख सितंबर के तीसरे या चौथे महीने तक रिलीज कर सकता है। अब ऐसे में सबसे ज्यादा परेशानी सीटों के बंटवारे को लेकर देखने को मिल सकती है, चूंकि चुनाव सर पर हैं, और अभी तक महागठबंधन की सीटों का सियासी समीकरण फाइनल नहीं हो पाया है। सूत्रों के अनुसार महागठबंधन में लालू यादव की पार्टी राजद (RJD) के रुख ने छोटी पार्टियों और उसके नेताओं की परेशानी ज्यादा बढ़ा दी है। बताया जा रहा है कि जिन पार्टियों में सियासी समीकरण फिट नहीं बैठ रहे उनमें मुकेश सहनी की पार्टी वीआईपी और रालोसपा शामिल है। दोनों ही पार्टियां जल्द से जल्द सीट बंटवारे की मांग कर रही है।

ये भी पढ़ें:-बिहार चुनाव से पहले RJD का बड़ा ऐलान, 160 सीटों पर ठोका दावा, महागठबंधन में मचा हडकंप

लेकिन मुकेश सहनी बार-बार बात बन जाने का दावा कर रहे हैं, सच्चाई तो यह है अभी भी राजद और कांग्रेस ने कुशवाहा और मुकेश सहनी की पार्टी को महागठबंधन की भनक भी नहीं लगने दी है, और न ही कोई भरोसा दिया है।

सूत्रों का दावा है कि राजद किसी भी कीमत पर 150 से कम सीटों पर चुनाव लड़ने को तैयार नहीं है, ऐसे में बाकी बचे हुए दलों में बची 90 से 93 सीटों में ही बंटवारा करना होगा। सीट बंटवारे की असल समस्या यही है।
महागठबंधन के भीतर के समीकरण को देखें, तो सबसे बड़ी पार्टी राजद है, उसके बाद कांग्रेस है, इन दोनों के अलावा कुशवाहा की पार्टी रालोसपा और मुकेश सहनी की पार्टी वीआईपी आती है।
वहीं कांग्रेस भी पिछली बार की तुलना में इस बार ज्यादा सीटों पर दावा ठोक रही है, पिछली बार कांग्रेस 41 सीटों पर लड़ी थी, लेकिन इस बार कम से कम 80 सीटों पर चुनाव लड़ने का दावा किया है। कहा जा रहा है कि कांग्रेस 50 से
60 सीटों पर मान सकती है, इसके अलावा वामदलों को भी गठबंधन में रखने पर सहमति पहले ही बन गई है।  इसके अलावा वामदलों में इस बार जेएमएम भी बिहार चुनाव में अपने पांव पसारने की तैयारी में जुटी है।

 

ये भी पढ़ें:-बिहार चुनाव से पहले RJD को करारा झटका, पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रघवुंश प्रसाद सिंह ने दिया इस्तीफा