पटना। बिहार में भारी बारिश के चलते बाढ़ जैसी स्थिति बनी हुई, कई नदियां उफान पर हैं। बिहार में मौसम विभाग ने भारी वज्रपात के साथ मध्यम से भारी बारिश को लेकर चेतावनी जारी की है। उत्तर बिहार के साथ मध्य बिहार के लिए मौसम विभाग ने अलर्ट जारी किया है। पटना, गया, औरंगाबाद, अरवल, जहानाबाद, नालन्दा, बांका में जहां 72 घंटे का अलर्ट है, वहीं मुजफ्फरपुर, समस्तीपुर, कटिहार, पूर्णिया, दरभंगा, मधुबनी, समस्तीपुर, सीतामढ़ी समेत कई जिलों को भी अलर्ट किया गया है। रात से ही बांका, पूर्णिया, कटिहार, किशनगंज जिलों में मध्यम बारिश हो रही है और बाकी जिलों में आसमान में काले बादल छाए हुए हैं।

मौसम विभाग की मानें तो बिहार में सोमवार से ही ट्रफ रेखा निचले हिस्से से गुजर रही है और श्रीगंगानगर, हिसार, दिल्ली से होकर बंगाल की खाड़ी से मिल रही है। ट्रफ रेखा की वजह से मानसून एक्टिव हो गया है और मौसम में अचानक बदलाव देखे जा रहे हैं। राज्य में एक महीने से सामान्य से 33 प्रतिशत कम बारिश हुई है। इस दौरान जून के मुकाबले जुलाई में मानसून कमजोर रहा है। बीते जून महीने में जहां 354.3 मिमी बारिश रिकॉर्ड की गई, वहीं जुलाई में 195.9 मिमी बारिश रिकॉर्ड की गई है।

आंकड़ों की मानें तो जून से अब तक राज्य में 550.2 मिमी बारिश हुई है, जो कि सामान्य से 20 प्रतिशत अधिक है। हालांकि, मौसम विभाग के साथ आपदा प्रबंधन विभाग ने भी भारी वज्रपात को देखते हुए अलर्ट जारी किया है और लोगों से खुले स्थानों और पेड़ के नीचे शरण नहीं लेने की अपील की है। वहीं आईएमडी ने बीते 26 जुलाई को पूर्वानुमान में कहा कि पश्चिमी हिमालयी क्षेत्र और उससे लगते हुए उत्तर पश्चिम भारत में बारिश गतिविधियां जोर पकड़ सकती हैं। 29 जुलाई तक हिमाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, जम्मू-कश्मीर, लद्दाख, गिलगित-बाल्टिस्तान और मुजफ्फराबाद, पंजाब और हरियाणा में भारी बारिश होने की सम्भावना है।

इसे भी पढ़ें:-दूसरे टी-20 मैच को जीतकर सीरीज पर कब्जा करना चाहेगी टीम इंडिया