‘अग्निपथ’ के विरोध प्रदर्शन में हर दिन हो रहे उथल पुथल, एहतियातन बंद किए गए 5 स्टेशन

भारतीय सेना (Indian Army) में भर्ती की नई योजना यानी अग्निपथ स्कीम (Agnipath Scheme) को लेकर बिहार (Bihar) में बवाल बढ़ता जा रहा है. शुक्रवार सुबह युवाओं ने बिहार के समस्तीपुर और लखीसराय में ट्रेन में आग लगा दी.

0
272
Agnipath Scheme Protest

 

Bihar Agnipath Scheme Protest: भारतीय सेना (Indian Army) में भर्ती की नई योजना यानी अग्निपथ स्कीम (Agnipath Scheme) को लेकर बिहार (Bihar) में बवाल बढ़ता जा रहा है. शुक्रवार सुबह युवाओं ने बिहार के समस्तीपुर और लखीसराय में ट्रेन में आग लगा दी. युवाओं की भीड़ ने ट्रेन के कई एसी कोच को आग के हवाले कर दिया. आगजनी के बाद बोगियां धू-धू कर जलने लगीं. इसी कड़ी में जम्मूतवी गुवाहाटी एक्सप्रेस ट्रेन की कुछ बोगियों को प्रदर्शनकारियों ने आग के हवाले कर दिया गया. आगजनी में ट्रेन की दो बोगियां जलकर खाक हो गई हैं. आपको बता दें कि अग्निपथ योजना को लेकर छात्रों का प्रदर्शन जारी है. ये घटनाक्रम हाजीपुर बरौनी रेलखंड के मोहिउद्दीननगर स्टेशन में सामने आया है.

कई रेलवे स्टेशन को किया गया बंद

बिहार में अग्निपथ योजना के विरुद्ध जारी छात्रों के हिंसक प्रदर्शन को ध्यान में रखते हुए 5 स्टेशनों को अभी हाल फिलहाल बंद कर दिया गया है. दिल्ली कोलकाता रूट की पटना से होकर गुजरने वाले जिन 5 स्टेशनों को बंद कर दिया गया है, इनमें बिहटा, कुल्हड़िया, डुमराव, बिहिया और लखीसराय स्टेशन को पूरी तरीके से बंद रखा गया है. लखीसराय स्टेशन फिलहाल मानो छावनी में बदल चुका है.

फूंकी गई बोगियां  

आज लगातार तीसरे दिन कई जिलों में हंगामा और बवाल बढ़ गया है. इससे पहले ट्रेनों पर पथराव और आगजनी हुई है. तो वहीं ट्रेन रोककर भी सरकार की नई सेना भर्ती स्कीम का विरोध भी जाहिर किया जा रहा है.

ट्रेन रोककर किया गया प्रदर्शन

समस्तीपुर में भी सेना की बहाली को लेकर केंद्र द्वारा लाई गई नई स्कीम अग्निपथ का छात्रों ने जमकर विरोध किया है. इस बीच दलसिंहसराय रेलवे स्टेशन पर अवध आसाम एक्सप्रेस ट्रेन को रोक कर भीषण प्रदर्शन जारी किया गया है. ये सारे आंदोलनकारी छात्र सरकार की सेना भर्ती की नई नीति मतलब कि अग्निपथ स्कीम का विरोध करते जा रहें हैं.

विरोध का कारण

सेना भर्ती के नए नियमों का विरोध जताने वाले युवाओं की भीड़ ने सुबह ही सड़कों पर उतर कर रोड जाम करने वाले कुछ युवाओं ने कहा है कि उनमें से कई दो साल पूर्व आयोजित बहाली की प्रक्रिया में दौड़ और यहां तक कि मेडिकल जांच भी वो करा चुके हैं, केवल परीक्षा देनी ही बाकी थी. कोरोना के नाम पर अब तक परीक्षा आगे बढ़ा जा रही थी. परीक्षा लेने के जगह बहाली की नई प्रक्रिया से ऐसे छात्रों का भविष्य भी अधर में दिखाई दे रहा है.

इसे भी पढ़ें-Agnipath Scheme Protest: प्रदर्शनकारियों का सुबह से ही हंगामा शुरु, जम्मूतवी गुवाहाटी एक्सप्रेस में लगाई आग