भाजपा-लोजपा के बीच शुरू हुआ जंग, प्रकाश जावड़ेकर पर बरसे चिराग पासवान ने याद दिलाई ‘2014 चुनाव’ की रणनीति

16
chirag paswan bjp

बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election) नजदीक हैं और राजनीतिक पार्टियों के बीच बयानबाजी का सिलसिला शुरू हो गया है। कुछ पार्टियां गठबंधन की सरकार बनाने की सोच रही हैं तो वहीं कई कुछ पार्टियां अकेले दम पर बिहार को जीतना चाहती हैं। अकेले दम पर लड़ने वाली पार्टी में लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) भी शामिल है, जिसका एलान पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान (Chirag Paswan) ने किया है। चिराग पासवान ने बिहार चुनाव के लिए एलान किया है कि वह बिहार में अकेले दम पर चुनाव लड़ेगे, जिसकी वजह से भाजपा और लोजपा के बीच जंग शुरू हो गई है।

यह भी पढ़े- यूपी में शुरू हुआ योगी का ‘मिशन शक्ति’, नवरात्रों में महिलाओं के लिए किया ये बड़ा ऐलान

चिराग के ऐलान के बाद भाजपा के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (Prakash Javadekar) ने चिराग पर तंज कसा था, जिसके बाद अब इस बयान पर प्रतिक्रिया दी है और 2014 के लोकसभा चुनाव की याद दिलाई है। चिराग ने एक निजी न्यूज चैनल को इंटरव्यू देते हुए कहा, यदि हम वोटकटवा हैं तो भाजपा ने 2014 से साथ क्यों रखा है? भाजपा नीतीश कुमार के दबाव में ऐसे बयान दे रही है। उसे अपने विवेक का इस्तेमाल करना चाहिए। चिराग ने यहां तक कहा है कि अगर नीतीश सीएम बने तो वह एनडीए में नहीं रहेंगे।

बता दें कि, चिराग का ये बयान प्रकाश जावड़ेकर के बयान पर आया था। प्रकाश ने कहा था, लोजपा बिहार के चुनावों में कोई प्रभाव नहीं डाल पाएगी। बिहार चुनाव में लोजपा केवल एक वोटकटवा पार्टी बनकर रह जाएगी। बिहार में केवल चार पार्टियां- भाजपा, जदयू, हम और वीआईपी साथ मिलकर चुनाव लड़ रही हैं। चिराग पासवान ने अलग रास्ता चुना है। वह भाजपा के वरिष्ठ नेताओं का नाम लेकर लोगों को गुमराह करने की कोशिश कर रहे हैं। हमारी कोई बी या सी टीम नहीं है।

मालूम हो कि, चिराग पासवान ने अपने हालिया इंटरव्यू में कहा था कि वह अपने पिता का सपना पूरा करेंगे। उनका कहना था कि लोजपा अकेले दम पर बिहार का चुनाव लड़े। वह नहीं चाहते थे कि उनके गठबंधन से ऐसी सरकार बन जो राज्य का विकास नहीं कर पा रही है। इसलिए वह अकेले बिहार का चुनाव लड़ेंगे। वह जदयू के साथ गठबंधित नहीं हैं। इससे पहले चिराग पासवान ने कहा था कि पापा रामविलास पासवान ने 143 सीटों पर चुनाव लड़ने का फैसला लिया था। जब नीतीश कुमार ने मेरे पिता का बार-बार अपमान किया तो एक बेटे के तौर पर मैं बुरी तरह आहत हो गया था।

यह भी पढ़े- पत्नी और दो बच्चों के साथ शख्स ने आग लगाकर की आत्महत्या, आर्थिक तंगी से थे परेशान