फिर मारी नीतीश कुमार ने बाजी, चुनाव होने से पहले ही हासिल की जीत, फिर बनेंगे CM?

962

अब..बिहार विधानसभा चुनाव की तैयारियां अपने चरम पर पहुंच चुकी है। चुनाव-प्रचार अपने शबाब पर है। कल-तक नेताओं की आमद से बेखबर रहीं ये गलियां अब आहिस्ता-आहिस्ता गुलजार हो रहीं हैं। तारीखें तो काफी पहले ही मुकर्रर हो चुकीं हैं। सीटों का बंटवारा भी हो चुका है। बकाया पार्टियां बहुत जल्द ही अपने उम्मीदवारों का ऐलान भी कर देंगी। कोरोना काल में यह देश का पहला चुनाव है। मगर चुनाव मुकम्मल होने से पहले अब इस बात को लेकर चर्चा-परिचर्चा अपने शबाब पर है कि आखिर इस बार कौन बनेगा प्रदेश का मुख्यमंत्री? क्या फिर मौजूदा सरकार  सत्ता में वापसी कर पाएगी? क्या फिर से सुशासन बाबू का जादू चल पाएगा? क्या बीजेपी और जेडीयू की जोड़ी प्रदेश में सियासी कमाल दिखा पाने में सफल रहती हैं? ये भी पढ़े :तय हो गई बिहार विधानसभा चुनाव की तारीख..इस दिन होगी वोटिंग, फिर आएगा 10 को रिजल्ट  

..तो हम आपको बताते चले कि अभी भले ही चुनाव न हुए हों। भले ही अभी चुनाव परिणामों की घोषणा होने में समय लग रहा हो, लेकिन बावजूद इसके कौन बनेगा प्रदेश का सरताज इसकी घोषणा हो चुकी है। जी हां.. वो कैसे? तो ऐसे कि टाइम्स नाऊ और सी वोटर ने अपने ओपिनियन पोल में साफ कर दिया है कि इस बार फिर से बिहार के मुख्यमंत्री की कुर्सी पर नीतीश बाबू विराजमान होने जा रहे हैं। टाइम्स नाऊ और सी वोटर के मुताबिक, आगामी चुनावों में बीजेपी-जेडीयू गठबंधन वाली एनडीए 48.2 फीसदी वोटों के साथ 160 सीटें जीतने की बात कही गई है। उधर,  बीजेपी को 85, जबकि जेडीयू को 70 सीटें मिलने का अनुमान लगाया गया है।

कैसा रहेगा महागठबंधन का हाल 
इसके साथ ही बात अगर महागठबंधन की बात करें तो आरजेडी को 56 सीटें, जबकि कांग्रेस को महज 15 सीटें मिलने की संभावना जताई जा रही है।  फिलहाल तो  बिहार में चुनाव से पहले शुरू हुई संभावना की यह बयार कहां तक और कितनी कारगर साबित हो पाती है। यह तो फिलहाल चुनावी नतीजों के बाद ही साफ हो पाएगी,  मगर बिहार में चुनाव को लेकर कयासों का दौर अपने चरम पर पहुंच चुका है।

चिराग पासवान की स्थिति 
वहीं, अगर चिराग पासवान की स्थिति की बात करें तो सी वोटर और टाइम्स नाऊ के मुताबिक, इस बार वे जमीनी स्तर पर मजबूत नजर आ रहे हैं। ध्यान रहे कि  इस बार तेजस्वी यादव के इतर चिराग पासवान भी नीतीश के खिलाफ ताल ठोंकने जा रहे हैं।  उनका साफ कहना है  कि वो यह चुनाव एनडीए के खिलाफ नहीं बल्कि जेडीयू के खिलाफ लड़ने जा रहे हैं। ये भी पढ़े :बिहार विधानसभा चुनाव: खुद के ही उम्र से बेखबर हैं ये प्रत्याशी, 5 साल में किसी की उम्र बढ़ी 8 साल, तो किसी के घटे 3 साल