बिहार नतीजे के बाद गरजे ओवैसी के भाई अरबरूद्दीन, कहा- पूरे भारत में लहराएंगे AIMIM का झंडा

71
akbaruddin owaisi

बिहार विधानसभा का चुनाव खत्म हो चुका है, और एनडीए की सरकार सत्ता में वापसी कर चुकी है. इसी के साथ ही इस चुनाव में पांच सीटें ओवैसी की पार्टी भी जीतने में कामयाब रही है. जिसकी खुशी सांसद असदुद्दीन के बयानों से लगाई जा सकती है. इस चुनाव में पांच सीटें हासिल करने के बाद ओवैसी ने बंगाल में भी चुनाव लड़ने का ऐलान किया है. इसी बीच ओवैसी के भाई अकबरुद्दीन ओवैसी (Akbaruddin Owaisi) ने चुनाव के बाद पहली बार बड़ा बयान दिया है. जिसकी चर्चा चारो तरफ हो रही है. अकबरूद्दीन ने अपने बयान में कहा कि, AIMIM की कामयाबी हिंदुस्तान की सियासत में नई तारीख लिखेगी और दुनिया देखेगी कि AIMIM सारे हिंदुस्तान में अपना झंडा लहराएगी.

ये भी पढ़ें:- ये मेरा आखिरी चुनाव है वाले बयान से पलटे नीतीश, बोले- लोग गलत समझ रहे हैं, मेरा मतलब तो.. 

बिहार चुनाव के नतीजे आने के बाद जहां बाकी पार्टियों के विधायक पटना पहुंच रहे हैं और सरकार बनाने की हलचल तेज हो गई है, तो वहीं दूसरी तरफ AIMIM पार्टी ने अपने पांचों विधायकों को हैदराबाद बुलाया है. इसके पीछे की वजह को लेकर सूत्रों का कहना है कि ओवैसी ने अपने विधायकों को इसलिए हैदराबाद बुलाया है, क्योंकि उन्हें अपनी पार्टी के टूटने का भय सता रहा है.

बीते शुक्रवार को ही अकबरुद्दीन ओवैसी बिहार से चुनाव जीते अपनी पार्टी के 5 विधायकों से मिले. इसके बाद उन्होंने अपने बयानबाजी में कहा कि, मुस्लिम वोट बांटने के आरोपों की परवाह उनकी पार्टी नहीं करती है. इसलिए ये बात तय है कि अब उनकी पार्टी दूसरे राज्यों में भी अपनी मौजूदगी बढ़ाएगी. यही नहीं अकबरुद्दीन ओवैसी ने तो ये तक कह दिया कि, “दोस्त और दुश्मन को पहचानो, अपनों और गैरों को पहचानो, हालत चीख-चिल्ला ये बार-बार कह रहा है कि एक हो जाओ, एक मरकज एक सियासी पर जमा हो जाओ.

ओवैसी के भाई ने भाषण में कहा कि, “अपनो को पहचानो…तोहमत इल्ज़ाम यूं ही लगते रहे हैं. हमें इसकी कोई फिक्र नहीं है. बिहार में मिली सफलता हिंदुस्तान की सियासत में नया इतिहास लिखेगी और दुनिया देखेगी AIMIM सारे हिंदुस्तान में अपना परचम लहराएगी. इसके बाद 70 सालों से जिन लोगों को नजरअंदाज किया जा रहा है हम उनकी नुमाइंदगी करेंगे.”

ये भी पढ़ें:- बंगाल चुनाव से पहले ओवैसी ने किया ऐसा ऐलान, TMC ने खोल दिया उनके खिलाफ मोर्चा