किसानों के लिए मोदी सरकार की दरियादिली, आजादी से लेकर अब तक किसी ने नहीं उठाया था ऐसा कदम 

113

किसी भी देश के आर्थिक विकास में वहां के किसानों की भूमिका बेहद अहम होती है, लेकिन अगर किसान ही उपेक्षित होंगे, तो उस देश के विकास की कल्पना करना ही बहुत बड़ी हिमाकत होगी। लिहाजा, अब मोदी सरकार ने किसानों के हित के लिए एक ऐसा कदम उठाया है, जिसे अब तक किसी भी सरकार ने कभी उठाना मुनासिब न समझा था। खैर, मोदी सरकार का यह कदम काबिल-ए-तारीफ है। बताते चले कि केंद्र सरकार ने किसानों  को आर्थिक तौर पर सबल करने की दिशा में ‘प्रधानमंत्री किसान सम्मन निधि योजना’ का शुभारंभ किया था। मोदी सरकार ने इस योजना का शुभारंभ 2018 में किया था। इसके तहत किसानों के खाते में 6 हजार रूपए डालने का प्रावधान किया गया था।

यहां पर हम आपको बताते चले कि अब तक मोदी सरकार ने किसानों के हित के लिए  8.80 करोड़ लोगों को 2-2 हजार रुपये करके भेजे हैं। उधर, ऐसे दौर में जब पूरे देश में कोरोना का कहर अपने शबाब पर पहुंचा है, तो यह योजना किसानों के लिए बेहद कारगर साबित हुई है। इस योजना के तहत मिलने वाला पैसा किसानों को इस लॉकडाउन में बड़ा काम आया है। किसानों के लिए ऐसा काबिल-ए-तारीफ भरा कदम आजादी के बाद से लेकर अब तक किसी भी सरकार ने नहीं उठाया। केंद्र सरकार के इस कदम की चौतरफा तारीफ भी हुई है। उधर, अगर विपक्षी दलों की बात करें तो ऐसा नहीं है कि विपक्षी दलों ने सरकार के इस योजना की आलोचना नहीं की। सरकार के इस योजना की विपक्षी दलों ने खूब आलोचना की, मगर सरकार ने इन सबसे बेपरवाह होते हुए इस योजना को धरातल पर उतारने का काम किया है।

इसके साथ ही हर योजना की तरह यह योजना भी सरकार की लालफीताशाही या फिर भ्रष्ट नेताओं के नापाक इरादों के चंगुल में न फंस जाए इसके मोदी सरकार ने इसका तोड़ काफी पहले ही निकाल लिया था। इस स्कीम के तहत किसानों को मिलने वाला पैसा डीबीटी के जरिए भेजा जाता है। पैसा देश के सभी 14.5 करोड़ किसान परिवारों को दिया जाना है लेकिन इस स्कीम के तहत सभी का वेरीफिकेशन नहीं हो पाया है।

इस तरह करें अप्लाई 
वहीं, अगर कोई किसान इस योजना के तहत मिलने वाले लाभ को उठाने चाहते हैं तो इसके लिए पहले उन्हें ऑनलाइन आवेदन करना होगा। इसके लिए सबसे पहले आपको www.pmkisan.gov.in की बेवसाइट पर जाना होगा। वेबसाइट के पहले पेज पर ही दाएं साइड में बडे़ अक्षरों में फार्मर कॉर्नर लिखा है। उधर, अगर पहले आप यह सुनिश्चित कर लेना चाहते हैं कि आपका नाम लाभार्थियों की सूची में है कि नहीं तो इसके लिए पहले आपको लाभार्थियों की सूची में क्लिक करना होगा। इसके बाद आप गांव, जिला, उपजिला के नाम से फॉर्म भरकर अपना नाम देख सकते हैं। इसके बाद आपका नाम स्वत: लाभार्थियों की सूची में दर्ज हो जाएगा। इस सूची में नाम दर्ज होने के बाद फिर आपको आधार नंबर, बैंक अकाउंट नंबर या फिर मोबाइल नंबर डालकर अपनी वर्तमान स्थिति का पता कर सकते हैं। ये भी पढ़े  :कृषि सुधार बिल विवाद में कूदी कंगना रनौत, विरोध कर रहे किसानों को बताया ‘आतंकी’