15 अगस्त पर बड़ी साजिश, लाल किले पर खालिस्तानी झंडा फहराने की हुई प्लानिंग

174
khalistan flag-red fort

15 अगस्त यानी स्वतंत्रता दिवस (Independence day 2020) काफी नजदीक है, और इसी को ध्यान में रखते हुए खुफिया एजेंसी (IB) की ओर से बड़ा अलर्ट जारी किया गया है. आईबी की तरफ से जारी किए गए बयान में ये बताया गया है कि खालिस्तान (Khalistan flag) की मांग करने वाले सिख फॉर जस्टिस का नेतृत्व करने वाले मुख्य आकाओं में से एक की ओर से लाल किले (Red Fort) पर 14, 15 और 16 अगस्त को खालिस्तान का झंड़ा (Khalistan flag) फहराने वाले सिख को सवा लाख डॉलर ईनाम के रूप में देने की घोषणा की गई है. इतना ही नहीं बल्कि सिख फॉर जस्टिस ने इसको लेकर एक वीडियो भी जारी किया है.

ये भी पढ़ें:- पंजाब पुलिस के हत्थे चढ़े दो खालिस्तानी आतंकी, हिंदूवादी नेताओं की हत्या का रचा था षडयंत्र

वीडियो के जरिए खालिस्तानी झंडे को लाल किले (Red Fort) पर फहराने का अनाउंसमेंट किया गया है. अपलोड किए गए वीडियो में ये बात साफ सुनी जा सकती है कि सिख फॉर जस्टिस (Sikh for Justice) का नेतृत्व कर रहे लोगों की ओर से ये कहा जा रहा है कि जो भी सिख लाल किले पर खालिस्तान का झंड़ा लगा देगा उसे सवा लाख डॉलर दिया जाएगा. फिलहाल आईबी के अचानक अलर्ट के बाद से लाल किले और इसके आसपास की सुरक्षाओं को पहले से भी ज्यादा मजबूत कर दिया गया है. इस समय भारतीय जवान (Indian Army) पूरी मुस्तैदी से लाल किले के चारों तरफ तैनात हैं.

दरअसल खालिस्तान की मांग करने वाले लोगों को और उनका सपोर्ट करने वालों को फंड पाकिस्तानी ISI की ओर से दिया जाता है. कहते हैं कि सिख फॉर जस्टिस का मुखिया गुरुवंतपंत पन्नू है. ये वो शख्स है जो पूरी दुनिया में रेफरेंडम 2020 चला रहा है. बता दें कि सिख फॉर जस्टिस के सुप्रीमो गुरूवंतपंत सिंह पन्नू की तरफ से हाल ही में जारी किए गए वीडियो के जरिए कहा गया है कि 15 अगस्त का दिन सिख समुदाय के लोगों के स्वतंत्रता दिवस का दिन नहीं है. क्योंकि ये वही दिन है जो सिखों को 1947 में किए गए बंटवारे के दौरान हुई त्रासदी की याद दिलाता है. यहां तक कि वायरल हुए वीडियो में पन्नू ये भी कहता है कि तब और आज में हमारे लिए कोई अंतर नहीं है. केवल शासक बदल गए हैं. आज भी भारतीय संविधान में हमें हिंदू के तौर पर दर्जा दिया गया है. यहां तक कि पंजाब के संसाधनों का इस्तेमाल गलत तरीके से बाकी के राज्य कर रहे हैं. इसलिए हमें अलग स्वतंत्रता की जरूरत है.

ये भी पढ़ें:- देश में आतंक फैलाने वालों पर शिकंजा कसेगी स्पेशल 44 अमित शाह ने बनाई यह खास टीम