Categories
देश

BCCI अध्यक्ष गांगुली कोराना पॉजिटिव, जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए भेजा गया कोरोना सैंपल

कोलकाता। बीसीसीआई अध्यक्ष और पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। तबियत ठीक नहीं होने की की स्थिति में 49 साल के सौरव गांगुली को कोलकाता के वुडलैंड अस्पताल में भर्ती कराया गया है। डॉक्टर उनके स्वास्थ्य पर लगातार उनपर नजर बनाए हुए हैं। सौरव गांगुली के कोरोना सैंपल को अब जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए भेजा गया है। ताकि ओमिक्रॉन वैरिएंट की जांच की जा सके। कोरोना के ओमिक्रॉन वैरिएंट के बढ़ते संकट के बीच चिंता की लकीरें बढ़ गयी हैं। ज्ञात हो कि इससे पहले साल की शुरुआत में भी खराब तबियत होने के कारण सौरव गांगुली को अस्पताल में भर्ती होना पड़ा था। उनके दिल का दौरा पड़ा था।

जनवरी 2021 में सौरव गांगुली को हार्ट अटैक आया था, जिसके बाद उन्हें कुछ दिनों तक अस्पताल में भर्ती रहना पड़ा था। सौरव गांगुली को तब एक महीने में दो बार एंजियोप्लास्टी करवानी पड़ी थी। एंजियोप्लास्टी के बाद सौरभ ठीक हो गए थे। बताया जा रहा है कि लगातार काम करने से दबाव में थे। सौरव गांगुली के कोरोना पॉजिटिव होने की खबर आने के तुरंत बाद सोशल मीडिया पर चिंता व्यक्त की गई। उनके स्वस्थ होने की कामना की जा रही है।

कप्तानी विवाद के कारण सुर्खियों में थे सौरव

ज्ञात हो कि हाल ही में सौरव गांगुली लगातार सुर्खियों में बने रहे हैं। टीम इंडिया में कप्तानी को लेकर विवाद चल रहा था। विराट कोहली को कप्तानी से हटा कर रोहित शर्मा को कप्तान बनाया गया है। कप्तान बदलेे जाने के बाद सौरव गांगुली के बयान चर्चा में आ गये। सौरभ गांगुली ने विराट से टी-20 की कप्तानी ना छोड़ने के लिए कहा था लेकिन वह नहीं माने। इसके बाद सेलेक्टर्स ने व्हाइट बॉल फॉर्मेट में एक ही कप्तान बनाने का फैसला किया। विराट कोहली ने जब प्रेस कॉन्फ्रेंस की तब उन्होंने कहा कि किसी ने भी उनसे कप्तानी ना छोड़ने का अनुरोध नहीं किया। विराट के प्रेसवार्ता से सौरभ के बयान खारिज हो गये।

यह भी पढ़ेंः-गावस्कर, बेदी और वेंकटराघवन को ऐसे हटाया गया था कप्तानी से, गांगुली पर कही ये बात