Batla House Encounter

बाटला हाउस एनकाउंटर (Batla House Encounter) मामले के आरोपी आरिज खान (Ariz Khan) को आज दिल्ली की साकेत कोर्ट ने फांसी की सजा सुना दी है. ये फैसला आज यानि की सोमवार के दिन कोर्ट में लंबी बहस के बाद सुनाया गया है. इस अपराध को कोर्ट ने कहा  कि ये रेयरेस्ट ऑफ रेयर केस है और इसी के साथ उन्होंने आरिज खान को समाज के लिए एक खतरा भी बताया है.

इसे भी पढ़ें- अब ट्रेन में यात्रियों को सफर के दौरान नींद लेना पड़ सकता है भारी

लगाया 10 लाख का जुर्माना

कोर्ट ने आतंकी संगठन इंडियन मुजाहिदीन से जुड़े आरिज को ना सिर्फ फांसी की सजा सुनाई है, बल्कि 11 लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया है. ये 10 लाख रुपये बाटला हाउस एनकाउंटर के दौरान जो शहीद हुए है, यानि की दिल्ली पुलिस में इंस्पेक्टर मोहन चंद शर्मा (Mohan Chand Sharma) की फैमिली को सौंपे जाएंगे. बता दें कि जज संदीप यादव ने दोषी आरिज खान की सजा को 4 बजे तक रोक दिया था फिर दिल्ली पुलिस ने आतंकवादी संगठन इंडियन मुजाहिदीन से कथित रूप से जुड़े आरिज खान सजा-ए-मौत देने का अनुरोध किया और कहा कि ये केवल एक हत्या का ही मामला नहीं है वरन न्यायी की रक्षा करने वाले कानून के रक्षक के मर्डर का मामला है.

बता दें कि 19 सितंबर साल 2008 को आरिज खान और उसका सहयोगी शहजाद ने पुलिस टीम पर हमला किया था और वहां से फरार हो गए थे. अभी तक इस मामले में केवल शहजाद को ही आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी. 14 फरवरी साल 2018 में ही आरिज को भी पुलिस ने दबोच लिया था, लेकिन इसकी सजा पर अभी तक कोर्ट लेट था. आज इस केस को पूरी तरह से इंसाफ मिल गया.

आरिज के लिए लोक अभियोजक ए.टी. अंसारी ने कहा कि इस मामले में इसे ऐसी सजा दी जाना जरूरी है, जिससे अन्य लोगों को भी सीख मिले सके और यह सजा मृत्युदंड ही होनी चाहिए. वहीं, दूसरी ओर  आरिज खान के वकील ने इस मृत्युदंड का विरोध किया.

इसे भी पढ़ें- कोरोना प्रोटोकॉल उल्लंघन पर Gauhar Khan पर दर्ज हुई एफआईआर, अब होगी कार्रवाई

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here