Categories
देश

सेना का हेलिकॉप्टर क्रैश, चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत सहित नौ लोग थे सवार

चेन्नै।  तमिलनाडु के कुन्नूर में भारतीय सेना का हेलिकॉप्टर क्रैश हो गया है। इस हेलिकॉप्टर में चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत मौजूद थे। जिस जगह ये वाहन क्रैश हुआ है, वहां पूरा जंगल का इलाका है और धुआं उठ रहा है। बताया जा रहा है कि इस हेलिकॉप्टर में बिपिन रावत के साथ उनकी पत्नी मधुलिका रावत भी मौजूद थीं। इस हेलिकॉप्टर में बिपिन रावत, उनकी पत्नी, एक ब्रिगेडियर रैंक का अधिकारी, एक अन्य अधिकारी और दो पायलट मौजूद थे। बताया जा रहा है कि इस चापर में नौ लोग मौजूद थे। अभी तक इस हेलिकॉप्टर क्रैश से तीन लोगों को सुरक्षित निकाला गया है। बताया जा रहा है कि खराब मौसम की वजह से यह हादसा हुआ है। अभी घायल लोगों को पास में ही मौजूद सेना के वेलिंग्टन बेस में इलाज के लिए ले जाया गया है।

वायुसेना के इस एमआई17-वी5 हेलिकॉप्टर में कुल नौ लोग सवार थे। घटना स्थल से दो शवों को निकाला गया है। सामने आई तस्वीरों में हेलिकॉप्टर को धू-धू करके जलते देखा जा सकता है। ऐसे में बड़े नुकसान की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता है।

नौ लोग थे हेलिकॉप्टर में सवार

हेलिकॉप्टर में सीडीएस बिपिन रावत, उनकी पत्नी मधुलिका रावत, ब्रिगेडियर एल एस लिडेर, लेफ्टिनेंट कर्नल हरजिंदर सिंह, एन के गुरसेवक सिंह, एनके जितेंद्र कुमार, विवेक कुमार, बी साय तेजा, हवलदार सतपाल सवार थे। बताया जा रहा है कि सीडीएस जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी एक कार्यक्रम में हिस्सा लेकर दिल्ली लौट रहे थे तभी एयरफोर्स का एमआई17-वी5 हेलिकॉप्टर नीलगिरी के जंगली इलाके में क्रैश कर गया। तीन लोगों को मलबे से निकाला जा चुका है।

ऊंटी वेलिंगटन से दिल्ली लौटते समय हुआ हादसा

कार्यक्रम ऊंटी के वेलिंगटन में आयोजित किया गया था। वहां सीडीएस जनरल रावत सम्बोधन के बाद लौट रहे थे। ऊंटी वेंलिगटन में आर्म्ड फोर्सेज का कॉलेज है। हेलिकॉप्टर में सीडीएस और उनकी पत्नी के साथ ब्रिगेडियर रैंक के अधिकारी भी थे जो सीडीएस के स्टाफ ऑफिसर थे। बताया जा रहा है कि सीडीएस को ले जाने वाले विमान या हेलिकॉप्टर के उड़ाने का खास प्रॉटोकॉल होता है।

हादसे की वजह का पता नहीं

क्रैश की वजहों को लेकर तमाम तरह के कयास लगाए जा रहे हैं। कहा जा रहा है कि शायद मौसम की खराबी और बादल की वजह से हेलिकॉप्टर के पायलट सही अनुमान लगाने से चूक गए और यह हादसा हो गया। अब कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी की जाएगी तभी हादसे की जानकारी मिल सकेगी।

यह भी पढ़ेंः-चीन के गतिरोध के बीच वायुसेना प्रमुख पहुंचे लद्दाख, ARMY की तैयारियों का लिया जायजा