SI Annie Shiva Emotional Struggle Story

एक महिला ही नहीं अगर कोई भी इंसान अगर कुछ ठान ले तो उसे पूरा करने से कोई रोक नहीं सकता। पर हम आपको बताएंगे एक ऐसी महिला की कहानी जिसने पहले परिवार के खिलाफ शादी की फिर जब उसे बेटा हुआ तो पति ने छोड़ दिया। महिला का बेटा सिर्फ 6 महीने का था और वह खुद 18 साल की थी। इतनी कम उम्र में महिला को अकेले सड़क पर छोड़ दिया गया और तब मायके वालों ने भी उसे स्वीकार नहीं किया। ऐसी स्थिति में महिला ने सुसाइड नहीं किया बल्कि कुछ ऐसा किया जो अब मिसाल बन गया है और लोग उनके संघर्ष की कहानियों से प्रेरित हो रहे हैं। महिला का नाम है एनी शिवा (Anie Siva) जिनकी तैनाती केरल पुलिस में एक महिला पुलिस उपनिरीक्षक (Sub-Inspector) के रूप में हुई है।

पति ने ठुकराया
एनी शिवा जब कांजीरामकुलम के केएनएम गवर्मेंट कॉलेज से ग्रेजुएशन कर रही थी। तब उन्होंने परिवार के खिलाफ जाकर अपनी मर्जी से शादी की थी। लेकिन ये शादी उनकी जिंदगी की बड़ी गलती बन गई। annie shivaशादी के बाद जैसे ही एनी शिवा ने बेटे के जन्म दिया तब उनके पति ने उन्हें छोड़ दिया। सहारा मांगने जब वह अपने मायके गई तो उन लोगों ने भी स्वीकार नहीं किया और 6 माह के बेटे के साथ घर से बेघर कर दिया।

झोपड़ी में मिला सहारा
हर तरफ से ठोकरें खाने के बाद स्थिति ऐसी थी कि एनी शिवा कुछ समझ नहीं पा रही थी। इसके बाद उन्होंने एक झोपड़ी को अपना घर बनाया और पेट पालने के लिए कई छोटे-मोटे काम किए। हालात इतने खराब थे कि, एनी शिवा को आईस्क्रीम और नींबू पानी भी बेचना पड़ा। annie shiva Struggle storyकाफी कुछ करने के बाद भी जब एनी को कुछ हासिल नहीं हुआ तो उन्होंने हार नहीं मानी। बल्कि बेटे के साथ अपनी पढ़ाई को भी जारी रखा। इसी दौरान उनका ग्रेजुएशन समाजशास्त्र (Sociology) में पूरा हुआ।

दोस्त ने की मदद
स्थिति बेहद खराब थी लेकिन धीरे-धीरे किस्मत साथ लेने लगी। साल 2014 में तिरुवनंतपुरम के कोचिंग सेंटर में एनी ने दाखिला लिया और एक दोस्त की मदद से सब इंस्पेक्टर (Sub Inspector) की परीक्षा दी जिसके एनी को सफलता मिली और वह एक सिविल पुलिस अधिकारी बन गई। इसके बाद 2019 में एनी शिवा ने सब-इंस्पेक्टर की परीक्षा पास की और करीब डेढ़ साल की ट्रेनिंग लेने के बाद वर्कला थाने में प्रोबेशनरी सब-इंस्पेक्टर के रूप में कार्यभार संभाला है। जिससे वह काफी खुश हैं। उससे हैरानी की बात यह है कि जिस जगह एनी शिवा की पोस्टिंग हुई है एक समय में उन्होंने उसी जगह खूब आंसू बहाए थे और किसी ने उनकी मदद नहीं की थी।

क्या बोलीं एनी शिवा?
इतनी बड़ी सफलता हासिल करने के बाद एनी शिवा (Anie Siva) ने बताया, ‘मुझे पता चला कि मेरी पोस्टिंग कुछ दिन पहले ही वर्कला पुलिस स्टेशन में हुई है, यह एक ऐसी जगह है, जहां मैंने अपने छोटे बच्चे के साथ आंसू बहाए और तब मेरा साथ देने वाला कोई नहीं था।’

केरल पुलिस ने भी किया सलाम!
एनी शिवा के संघर्ष की कहानी सुनकर हर कोई उन्हें सलाम कर रहा है। मुश्किल हालातों में भी एनी ने आत्मविश्वास नहीं खोया बल्कि सब इंस्पेक्टर बनकर उन लोगों के मुंह पर थप्पड़ मारा है जिन लोगों ने छोटे बच्चे के साथ बेघर कर दिया था। केरल पुलिस भी एनी की कहानी से प्रभावित हुई है और उन्होंने एक ट्वीट किया। annie shiva SIजिसमें केरल पुलिस ने लिखा- ‘इच्छाशक्ति और आत्मविश्वास का एक सच्चा मॉडल। एक 18 वर्षीय लड़की जो पति और परिवार द्वारा छोड़े जाने के बाद 6 महीने के बच्चे के साथ सड़कों पर छूट गई, वर्कला पुलिस स्टेशन में सब इंस्पेक्टर बनी है।’

ये भी पढ़ेंः- कोरोना से जंग जीतने के बाद एवरेस्ट पर लहराया झंडा, 25 साल के शख्स ने पेश की मिसाल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here