अमित की हाई लेवल मीटिंग, NSA डोभाल भी रहे मौजूद…अलर्ट पर एजेंसियां

0
192

जम्मू कश्मीर के हालात इन दिनों सही नहीं है। जहां एक तरफ घाटी आतंकियों के निशाने पर बताई जा रही है। तो वही आतंकियों से बचाने के लिए केंद्र सरकार भी एक के बाद एक नए कदम उठा रही है। जिसकी वजह से देश का सियासी पारा भी चढ़ गया है। घाटी ने सुरक्षा बलों की बढ़ोत्तरी के बाद अब दिल्ली में एक के बाद एक बैठकों दौर जारी है। दरअसल रविवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने शीर्ष अधिकारियों के साथ बैठक की। इस बैठक में अमित शाह के साथ राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) अजीत डोभाल, और गृह सचिव राजीव गौबा भी मौजूद रहे। लेकिन हैरानी की बात ये रही कि इस बैठक के तुरंत बाद अमित शाह ने अडिशनल सेक्रटरी (जम्मू-कश्मीर डिविजन) ज्ञानेश कुमार के साथ बैठक की। बता दें कि अजित डोभाल और गृह सचिव के साथ हुई बैठक में सिक्योरिटी मुद्दे पर चर्चा हुई। इन बैठकों की वजह से अब हलचल ज्यादा बढ़ गई है। माना जा रहा है कि इन तमाम बैठकों में सिर्फ कश्मीर मुद्दे की ही चर्चा हो रही है। या फिर यू कहें कि ये बैठके सिर्फ कश्मीर मुद्दे पर चर्चा के लिए बुलाई जा रही है।

वही दूसरी तरफ संसद में भी सोमवार को इन हलचल पर हंगामा देखने को मिल सकता है। जिसमें विपक्ष कश्मीर मुद्दे पर इन हलचल से उठ रहे सवालो के जवाब गृह मंत्री अमित शाह से मांगेगा। दूसरी तरफ सरकार की अलग ही रणनीति सामने आई है। सूत्रों के मुताबिक, संसद का सत्र अब महज दो दिन का रह गया है लेकिन मोदी सरकार इस सत्र को दो दिन और आगे बढ़ा सकती है। इस मौके पर मोदी सरकार द्वारा कोई बड़ा बिल पेश हो सकता है। हालांकि अब तक के जो भी विशेष बिल थे उन्हें मोदी सरकार संसद में पेश किए जा चुके है। जिसके चलते मोदी सरकार सत्र के दो दिन क्यों बढ़ाना चाहती है इस पर भी सवाल खड़े होने लग गए है। हालांकि खबर ये भी कि केंद्र सरकार ने सभी टॉप एजेंसियों को भी अलर्ट पर रखा है। इसके अलावा जम्मू कश्मीर में तैनात किए गए तमाम सुरक्षा बलों की छुट्टिया भी रद्द कर दी गई है। वही जो जवान छुट्टियों पर गए थे उन्हें भी वापस बुला लिया गया है, जिसके बाद अब सभी को स्टैंडबाइ मोड पर रहने के लिए कहा गया है।

वही जम्मू कश्मीर के लिए इन सभी फैसलों के बाद घाटी में कई बड़े फैसला लेने के लिए माना जा रहा है। हालांकि अभी तक सरकार की तरफ से बस एक ही बयान जा किया गया है। जिसमें घाटी में आतंकी हमले होने की आशंका जताई गई है। सरकार का कहना है कि घाटी में अमरनाथ यात्रियों को निशाना बनाया जा सकता है। वही आतंकी कोई बड़ी वारदात को भी अनजाम दे सकते है जिसके चलते ये सभी कदम उठाए जा रहे है। ये भी पढ़ें:-कश्मीर के लिए अमित शाह ने तैयार किया है जबरदस्त प्लान, गुलमर्ग का हाल देखकर उमर अब्दुल्ला के होश उड़े

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here