Thursday, January 28, 2021
Home देश कोरोना वायरस के खौफ के बीच WHO ने दिए ये भयावह संकेत..जा...

कोरोना वायरस के खौफ के बीच WHO ने दिए ये भयावह संकेत..जा सकती है लाखों लोगों की जान!  

कोरोना वायरस (Coronavirus) के खौफ के आलम के बीच WHO के ये संकेत आपको परेशान और हैरान कर सकते हैं। यह महज एक संकेत नहीं बल्कि आगामी दिनों के भयावह मंजर की एक खौफनाक दास्तां है, जिसे पढ़कर आज आपकी रूह भी कांप सकती है। खैर, ये तो रही भविष्य के दूरदर्शी नतीजों के पूर्वानुमानों की बात। मगर वर्तमान परिदृश्य भी किसी खौफनाक मंजर से कम नहीं है। लगातार बढ़ते कोरोना के ये मामले आज से 100 साल पहले स्पेनिश फ्लू की याद दिलााने लगे हैं। इस संदर्भ में डब्लूएचओ के प्रमुख असिस्टेंट डायरेक्टर जनरल रनीरी गुएरा ने स्पेनिश फ्लू का हवाला देते हुए कहा कि तब अक्टूबर-नवंबर में इसका कहर बढ़ गया था और आज की तारीख में समस्त विश्व में तांडव करने पर अमादा हुआ कोरोना भी कुछ इसी तरह ही बर्ताव कर रहा है।

ये भी पढ़े :कोरोना वायरस से ठीक हो रहे मरीजों के लिए बुरी खबर, जिंदगी भर झेलनी पड़ सकती है यह बीमारियां 

बताते चले कि RAI टीवी से बात करते हुए रनीरी गुएरा ने कहा कि करीब 100 साल पहले स्पेनिश फ्लू की लहर से लाखों लोगों की मौत हो गई थी। उस वक्त इसने आज की तारीख में बर्ताव कर रहे कोरोना जैसा ही सुलूक किया था। स्पेनिश फ्लू भी गर्मियों में घट गए थे, मगर ठंड का मौसम आते ही इनका कहर फिर से बढ़ गया। वहीं  यूरोपिय सेंट्रल बैंक के प्रमुख क्रिस्टीन लगार्डे ने शुक्रवार को कहा था कि अगर हमने 1918-1919 के स्पेनिश फ्लू से कुछ सीखा है तो निश्चित तौर पर कोरोना की दूसरी लहर आ सकती है।

इसके साथ ही महामारी विशेषज्ञों का कहना है कि महामारी को लेेकर ऐसी कोई भी परिभाष तय नहीं है। पहले की हुई स्टडी में इस बात का दावा करतेे हुए कहा था कि गर्मियों में कोरोना के मामले कम हो सकते हैं, लेकिन अब महामारी विशेषज्ञों ने साफ कर दिया है कि यह महामारी का दौर है और इसकी कोई असल या फिर तय परिभाष नहीं है। कोरना के खौफनाक मंजर का अंदाजा आप महज इसी से लगा सकतेे हैं कि अब तक समस्त विश्व में  97.7 लाख मामलों की पुष्टि हो चुकी है। जबकि दुनियाभर में 4.9 लाख लोगों की मौत कोरोना वायरस से हो गई है। बहरहाल इस पर रोक लगाने के लिए लगातार हिदायतों का सिलसिला जारी है।

ये भी पढ़े :कोरोना वायरस के खौफ के बीच आई राहत की खबर, लेकिन राजधानी दिल्ली में बजा खतरे का साइरन

Most Popular