LAC पर तनाव के बीच चीन की नई चाल, PM मोदी समेत 10 हजार भारतीयों की जासूसी के लिए तैयार की रणनीति

77
China 2

LAC पर भारत और चीन की तनाव लगातार बढ़ता जा रहा है। इन दिनों भारतीय सेना और चीनी सैनिक के बीच झड़प की स्थिति भी कई बार बनी है। जिस वजह से माना जा रहा है कि युद्ध की स्थिति भी आ सकती है लेकिन ऐसी स्थिति में चीन अपने हथकंडो से बाज नहीं आ रहा। चीन की तरफ से लगातार नापाक इरादों को अंजाम दिया जा रहा है लेकिन अब चीन ने भारत के खिलाफ एक ऐसा कदम उठाया है। जिससे हर कोई हैरान रह गया। जहां अब तक चीन भारतीय नागरिकों की जानकारी चुराने का काम करता था तो वहीं, अब चीन ने अपनी कुछ कंपनियों के जरिए भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत कई दिग्गज हस्तियों की जासूसी करवाई है।

अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस ने अपनी एक रिपोर्ट में दावा किया है कि चीन अपनी कंपनी शेनज़ेन के जरिए भारत के लगभग 10 हजार लोगों की जासूसी करवा रहा है। जासूसी करने वाली कंपनी शेनज़ेन का संबंध सीधा चीन की कम्युनिस्ट सरकार से है। चीन प्रधानमंत्री पीएम मोदी से लेकर सभी केंद्रीय मंत्री, मुख्यमंत्री, सेना के बड़े अफसर और बिजनेसमैन पर निगरानी रख रहा है। झेनझुआ डेटा इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी कंपनी लिमिटेड की ओर से भारतीय हस्तियों पर नजर रखी जा रही है। इस लिस्ट में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, गांधी परिवार, ममता बनर्जी, उद्धव ठाकरे, नवीन पटनायक जैसे बड़े नेता, राजनाथ सिंह-पीयूष गोयल जैसे केंद्रीय मंत्री, CDS बिपिन रावत समेत कई बड़े सेना के अफसर शामिल हैं।

अखबार ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया है कि नेता के अलावा भारतीय खिलाड़ी जैसे सचिन तेंदुलकर, बिजनैसमेन गौतम अडानी, फिल्म डायेरक्टर श्याम बेनेगल, सोनल मानसिंह, राधे मां जैसी हस्तियों पर भी चीन की नजर है। चीनी कंपनियां इन सभी हस्तियों की निजी जिंदगी की जुड़ी अहम जानकारी निकाल रही है। जिसमें ये तक देखा जा रहा है कि यह सभी किस-किस से मिलते है। इस दौरान इन सभी लोगों का रियल टाइम डेटा इकट्ठा किया जा रहा है। इस जांच के लिए शेनजान इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी फर्म ने चीनी सरकार और कम्युनिस्ट पार्टी के साथ मिलकर ओवरसीज़ का इन्फॉर्मेशन डाटा बेस बनाया है, जिसके तहत इस मिशन का पूरा काम होता है।

कंपनी की ओर से कलेक्ट किए जा रहे इस डाटा को चीनी कंपनियां हाइब्रेड वॉर का नाम देती हैं, जो किसी के बारे में जानकारी जुटाने को मिशन बना देती हैं। बता दें कि अब चीन सीमा पर घुसपेठ से लेकर डिजिटल प्लेटफॉर्म पर जासूसी जैसे हथकंडे अपना रहा है लेकिन भारत भी चीन को समय-समय पर करारा जवाब दे रहा है। हाल ही में भारत ने चीन की कई मोबाइल ऐप को बैन किया है। जो इसी तरह डाटा चुराने का काम करती थी।

ये भी पढ़ें:-चीन से दो कदम आगे सोचती है भारतीय सेना, 1 महीने पहले ही बन चुका था प्लान, अब खौफ में ड्रैगन