अमेरिका ने दी भारत के मानवाधिकार पर नसीहत, एस जयशंकर ने दिया करारा जवाब, बोले- गिरेबान में झांकने…

पलटवार करते हुए एस जयशंकर ने यह बात कही कि अमेरिका को लेकर भी हमारी चिंता भी ठीक उसी तरह की है विदेश मंत्री ने कहा कि द्विपक्षीय वार्ता में मानवाधिकारों के मुद्दों पर चर्चा नहीं की गई।

0
311
S Jaishankar

भारत ने अमेरिका को मानवाधिकार उल्लंघन के आरोपों पर जमकर जवाब दिया है वाशिंगटन में विदेश मंत्री एस जयशंकर ने अमेरिका को अपने यहां मानवाधिकार उल्लंघन के मामलों की याद दिलाते हुए कुछ ऐसा किया जिसके बाद हर जगह उनकी प्रशंसा हो रही।टू प्लस टू वार्ता में दोनों देशों के बीच बढ़िया संबंध बनाने को लेकर बात हुई लेकिन उसके बाद ही अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन (Antony Blinken)ने मानवाधिकार पर भारत को सलाह दे दी और असहज कर दिया अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन (Antony Blinken) ने कहा कि अमेरिका भारत सरकार, पुलिस और जेल अधिकारियों द्वारा मानवाधिकारों के हनन के मामले की निगरानी कर रहा है जिस पर पलटवार करते हुए एस जयशंकर ने यह बात कही कि अमेरिका को लेकर भी हमारी चिंता भी ठीक उसी तरह की है विदेश मंत्री ने कहा कि द्विपक्षीय वार्ता में मानवाधिकारों के मुद्दों पर चर्चा नहीं की गई।

दिया करारा जवाब

इसके आगे विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा कि खुद ही अमेरिका पर मानवाधिकार के मामलों पर उल्लंघन के आरोप लगे हैं। उन्होंने कहा कि निजी हित लाभ और वोट बैंक के माध्यम से अमेरिकी स्थिति संचालित की जा रही है। जब भी वह इस पर चर्चा करते हैं तो भारत इस पर चुप नहीं रहेगा मंत्री ने यह भी कहा कि अमेरिका सहित मानवाधिकारों की स्थिति के बारे में भारत के विचार हैं। हम मानवाधिकारों के मुद्दों को उठाते हैं जब वे एक देश में उठते हैं खासकर जब यह हमारे समुदाय से जुड़े होते हैं।

विदेश मंत्री ने यह भी कहा कि लोगों को हमारे बारे में विचार रखने का अधिकार है हम उनके वोट बैंक के बारे में विचार रखने के हकदार भी हैं हम मितभाषी नहीं होंगे हमारे पास बाकी लोगों के मानवाधिकारों पर भी विचार हैं। खासकर जब यह हमारे समुदाय से जुड़े हैं असल में यूक्रेन में जंग को लेकर भारत में अभी तक तथास्तु की नीति अपनाई हुई है जिसके बाद अमेरिका दूसरे मसलों को लेकर भारत पर दबाव बनाने का प्रयास कर रहा है।

Read More-Parliamentary Board में जल्द ही होगी CM योगी की एंट्री! अभी भी खाली 4 पद