fact Check trains cancelled

देश में एक बार फिर से कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण ने कोहराम मचाना शुरू कर दिया है. जहां महाराष्ट्र में हर दिन नए मामलों में तेजी देखी जा रही है. तो कई ऐसे राज्य हैं जहां कोरोना वायरस तेजी से फैलने लगा है. ऐसे में राज्यों की ही नहीं बल्कि केंद्र की भी चिंता बढ़ गई है. हालांकि, कहीं लॉकडाउन (Lockdown) है तो कहीं नाइट कर्फ्यू (Night Curfew) लगा है. जिससे संक्रमण को काबू में रखा जा सके. इसके अलावा वैक्सीनेशन भी जारी है.

इस बीच सोशल मीडिया (Social Media) पर चर्चा है कि भारतीय रेलवे (Indian Railways) ने होली (Holi Festival 2021) के त्योहार से पहले यात्रियों को झटका देते हुए 31 मार्च 2021 तक सभी ट्रेनों को रद्द कर दिया है. वायरल पोस्ट में बताया गया है कि, कोरोना के बढ़ते संक्रमण के मद्देनजर सरकार ने ये फैसला लिया है. ऐसे में अधिकांश ट्रेनें और कोविड-19 स्पेशल ट्रेनों का संचालन नहीं होगा.

ये पोस्ट वायरल होने के बाद यात्रियों में खलबली मच गई. क्योंकि, लोग होली के त्योहार पर घर जाने वाले हैं. ऐसे में ट्रेनें रद्द होने की खबर सामने आते ही लोगों के बीच चर्चा हो गई. मगर अब इस पोस्ट की असली सच्चाई सामने आ गई है. पीआईबी फैक्ट चेक के मुताबिक, ट्रेनें रद्द होने वाला मैसेज पूरी तरह फर्जी है. सरकार द्वारा इस तरह का कोई ऐलान नहीं किया गया है और न ही रेलवे द्वारा कोई ऐसा कदम उठाया गया है. इस वायरल पोस्ट की सच्चाई बताते हुए PIB ने एक ट्वीट किया है. ट्वीट में लिखा गया, ‘एक खबर में दावा किया जा रहा है कि 31 मार्च तक सभी ट्रेनें रद्द कर दी गई हैं. #PIBFactCheck: यह खबर पुरानी है. @RailMinIndia ने 31 मार्च, 2021 तक ट्रेन रद्द करने का यह फैसला नहीं लिया है. इस पुरानी खबर को गलत संदर्भ में साझा किया जा रहा है.’

बता दें, अक्सर सोशल मीडिया पर कुछ लोग गलत अफवाहें फैला देते हैं. इस वजह से लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ता है. ऐसे में पीआईबी समय-समय पर जनता को सतर्क करता है और किसी भी खबर की सच्चाई जाने बगैर उसे शेयर करने से रोकने का अनुरोध करता है. साथ ही खबरों की असली सच्चाई भी जनता तक पहुंचाता है.

ये भी पढ़ेंः- अब ट्रेन में यात्रियों को सफर के दौरान नींद लेना पड़ सकता है भारी