कश्मीर में हलचल, अमरनाथ यात्रियों को एयरलिफ्ट करने आएगा वायुसेना का सी-17 विमान

0
144
सी-17 विमान

कश्मीर मुद्दे को लेकर फिलहाल देश में तनाव की स्थिति बनी हुई है। कश्मीर पर फिलहाल अब तक सरकार की तरफ से स्थिति साफ नहीं हो पाई है। लेकिन ऐसे कयास लगाए जा रहे हैं कि, कश्मीर पर सरकार कुछ बड़ा करने जा रही है। इस बीच बीजेपी की हिंदूवादी नेता साध्वी प्राची ने भी एक बयान दिया है। जिससे सियासत गरमा गई है। साध्वी ने मेरठ में पत्रकारों से बातचीत की। और कहा कि, कश्मीर में 15 अगस्त को तिरंगा फहराया जाएगा। उनके इस बयान ने भले ही पूरी स्थिति साफ नहीं की हो। पर कहीं ना कहीं सबको इस बयान ने स्थिति के संकेत दे दिए हैं। फिलहाल अभी इसमें एक नया अपडेट ये है कि, जम्मू-कश्मीर सरकार ने भारतीय वायु सेना से कश्मीर में मौजूद अमरनाथ यात्रियों और पर्यटकों को वहां से एयरलिफ्ट कर सुरक्षित स्थानों पर छोड़ने की अपील की है।

न्यूज एजेंसी एएनआई की मानें तो, जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने इंडियन एयरफोर्स से अपने सी 17 विमान से अमरनाथ यात्रियों को श्रीनगर से पठानकोट, जम्मू और दिल्ली में से किसी भी स्टेशन पर पहुंचाने की अपील की है। तो वहीं सरकारी सूत्रों का कहना है कि, प्रशासन ने इस संबंध में आग्रह भेजा है। जिसमें अमरनाथ यात्रियों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाने की बात कही गई है। बताया जा रहा है कि, यात्रियों को लेने सी-17 विमान कुछ देर में श्रीनगर पहुंच जाएगा। ये विमान एक बार में 230 लोगों को ले जा सकता है।

मंत्रालय के आदेश के बाद से खलबली
गौरतलब है कि, गृहमंत्रालय ने शुक्रवार को एडवाइजरी जारी की थी। जिसमें अमरनाथ यात्रा को रोकने के आदेश दिए गए थे। साथ ही कश्मीर को खाली करने की बात कही गई थी। आदेश के बाद से ही कश्मीर में बाहरी छात्र-छात्राओं और यात्रियों को यहां से रवाना किया जा रहा है। शनिवार को करीबन 800 छात्र-छात्राओं को एनआईटी से जम्मू-श्रीनगर के जरिए जम्मू भेजा गया। साथ ही श्रीनगर में अमरनाथ यात्रियों और पर्यटकों को भी सरकारी बसों के जरिये घाटी से जम्मू भेजा जा रहा है।

वायु सेना को रखा गया था अलर्ट पर
भारतीय वायुसेना को सरकार ने घाटी के हालातों पर पहले से ही अलर्ट रहने के आदेश दे दिए थे। जबकि 28 हजार जवानों को घाटी में तैनात किया गया था। फिलहाल घाटी में सुरक्षा व्यवस्था के सारे इंतजाम पुख्ता करने की कोशिशें जारी हैं। सुरक्षाबलों की तैनाती पर गृह मंत्रालय ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में अर्द्धसैन्य बलों की तैनाती आंतरिक सुरक्षा के आधार पर की गई है। ये भी पढ़ेंः- बड़ी खबर: कल पीएम आवास पर होगी कैबिनेट मीटिंग, कश्मीर में कुछ बड़ा होने वाला है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here