सांसदों की सैलरी में होगी 30 फीसद कटौती, संसद में लिया गया बड़ा फैसला

17

कोरोना के दौर में हमें कई बदलाव देखने को मिले हैं। इस बीच एक बड़े बदलाव की पेशकश फिर से संसद के पटल पर रखी गई। आज संसद में मानसून सत्र के दौरान संसद सदस्य वेतन, भत्ता और पेंशन विधयेक लोकसभा में पेश किया गया। इस विधेयक में यह प्रावधान किया गया है कि आगामी एक वर्ष तक सांसदों के वेतन में 30 फीसद की कटौती का सिलसिला जारी रहेगा। बताया जा रहा है कि यह कदम कोरोना महामारी के दौरान उत्पन्न हुई आर्थिक चुनौतियों का सामना करने के लिए उठाई गई है।

यहां पर हम आपको बताते चले कि इस संदर्भ में संसदीय मामलों के मंत्री प्रह्लाद जोशी (Pralhad Joshi) ने लोकसभा में वेतन, भत्ता एवं पेशन संशोधन विधेयक 2020 पेश किया था। इससे पहले 6 अप्रैल को भी यह अध्यादेश मंत्रिमंडल की अनुमति के उपरांत संसद में पेश किया गया था। इस अध्यादेश में कहा गया था कि कोरोना माहमारी की स्थिति के दृष्टिगत सांसदों के वेतन में 30 फीसद की कौटती का प्रावधान किया गया और अब जब संसद का मानसून सत्र शुरू हो चुका है, तो इसे कानून की शक्ल देने के लिए संसदीय कार्य मंत्री ने इसे निचले सदन में पेश किया था। उधर, इस पूरे मामले को लेकर टीएमसी सांसद कल्याण बनर्जी ने कहा कि सरकार हमारी पूरी सैलरी काट लें। हमें इससे कोई दिक्कत नहीं होगी। लेकिन हां.. हमें संसद निधी पूरी मिलनी चाहिए। ये भी पढ़े :रिया चक्रवर्ती पर ‘मीडिया ट्रायल’ देख भड़के बॉलीवुड स्टार्स और संगठन, लिखा खुला खत