कांग्रेस में फूटा अब ‘लेटर बम’..खौफ में आ गए राहुल, प्रियंका और सोनिया

214

देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस की हालत आज किसी से छुपी नहीं है। हर राज्यों में अपना जनाधार खो चुकी पार्टी के लिए संकट अब उसके वजूद पर आकर टिक चुकी है। नेतृत्वहिन हो चुकी है कि पार्टी के लिए अब आगे का खाका खींचना मुश्किल हो रहा है। याद दिला दें कि लोकसभा चुनाव में मिली करारी शिकस्त के बाद राहुल गांधी ने हार की जिम्मेदारी लेते हुए अपना इस्तीफा दे दिया था। साथ ही में उन्होंने यह भी कह दिया था कि अब पार्टी का अगला अध्यक्ष किसी गैर गांधी परिवार का होना चाहिए। वहीं बीते दिनों इस बात को तब और बल मिल गया, जब खुद प्रियंका गांधी ने भी राहुल गांधी की बात का समर्थन किया था।

ये भी पढ़े :कमलनाथ और दिग्विजय के राम मंदिर समर्थन पर, कांग्रेस सांसद ने कहा- झुकना जैसा है सोनिया गांधी से की शिकायत

वहीं, अब पार्टी में एक और संकट उभरकर सामने आया है। वो यह है कि पार्टी में 20 से भी अधिक नेताओं ने सोनिया गांधी को पत्र लिखकर परिवर्तन की मांग की है। पार्टी में इसे ‘लेटर बम’ बताया जा रहा है। माना जा रहा है कि पार्टी में फूटे इस लेटर बम की आवाज दूर तलक जाएगी और असर भी दूरगामी होगा। बहरहाल, नेताओं ने अपने द्वार लिखे इस खत में सोनिया गांधी से मुलाकात की मांग की है। लिखे गए खत में परिवर्तन की मांग की गई है। सियायी पंडितों का कहना है कि कांग्रेस के नेतागण पार्टी में बड़े बदलाव की आस लगाए बैठे हैं। वे चाहते हैं कि अंतरिम अध्यक्ष के स्थान पर अब स्थायी अध्यक्ष पार्टी को मिले, मगर अध्यक्ष पद को लेकर पार्टी में ऊंहापोह की स्थिति बनी हुई है।

दो गुटो में बंटी पार्टी 
यहां पर हम आपको बताते चले कि कांग्रेस में राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद को लेकर पार्टी दो गुटों में बंट चुकी है। एक गुट चाहता है कि पार्टी की कमान फिर से राहुल गांधी के हाथ में जाए तो वहीं दूसरा गुटा ऐसा है, जो बड़े बदलाव की मांग कर रहा है। यह ‘बड़ा बदलाव’ का शब्द नेतृत्व की ओर संकेत करता हुआ नजर आ रहा है। उधर, राहुल समेत प्रियंका चाहते हैं कि पार्टी अध्यक्ष का पद किसी गैर-गांधी परिवार के सदस्य को दी जाए, जिसे लेकर अब यह लेटर लिखा गया है। उधर, पार्टी में अभी अंतिम निर्णय लेने का हक अभी भी राहुल गांधी और प्रियंका के हाथ में ही बना हुआ है। इसकी बानगी हम सचिन पायलट प्रकरण में देख चुके हैं। उधर, अब इन सभी स्थितियों के बाद देखने वाली बात यह होगी पार्टी अब इस लेटर बम के बाद क्या कदम उठाती है। ये भी पढ़े :जानें क्यों प्रियंका गांधी भी नहीं चाहतीं कि राहुल गांधी बने कांग्रेस के अध्यक्ष, चौंकाने वाली है वजह