Friday, December 3, 2021

TALIBAN ने कश्मीर पर भारत को दिया झटका तो पाकिस्तान पर कही ये बात

Must read

- Advertisement -

काबुल। अफगानिस्तान पर हथियार के बल पर तालिबान का कब्जा होने के बाद दुनिया के लिए संकट बढ़ता जा रहा है। अफगानिस्तान के डिप्टी इंफॉर्मेशन मिनिस्टर और तालिबान के प्रवक्ता जबीहुल्लाह मुजाहिद ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय के सामने अफगानिस्तान का समर्थन करने के लिए पाकिस्तान की सराहना की है। मुजाहिद ने कहा कि अफगानिस्तान को लेकर पाकिस्तान मुखर रहा है और अंतरराष्ट्रीय ताकतों से अपील करता आया है कि वे अफगानिस्तान के साथ जुड़ें। उन्होंने पाकिस्तान के प्रयासों की तारीफ की। जबीहुल्लाह मुजाहिद ने कश्मीर को लेकर भी बयान दिया है जिससे भारत को झटका लगा है।

कश्मीर के पीड़ित मुस्लिमों को सपोर्ट करेंगे

- Advertisement -

तालिबान ने अफगानिस्तान पर कब्जे के बाद कहा था कि कश्मीर भारत का आंतरिक मामला है। वह भारत के आंतरिक मामले में दखल नहीं करेंगे। जबीहुल्लाह मुजाहिद ने अब कहा है कि कश्मीर के पीड़ित मुस्लिमों के लिए तालिबान आवाज उठाना जारी रखेगा। जबीहुल्लाह मुजाहिद ने अब इस मसले पर एक बार फिर अपनी राय रखी। उन्होंने कहा कि पूरी दुनिया में कई ऐसे क्षेत्र हैं जहां मुसलमानों के साथ गलत व्यवहार हो रहा है चाहे फिलीस्तीन हो, कश्मीर हो या म्यांमार हो। ऐसे देशों के खिलाफ आवाज उठायी जाएगी। उन्होंने आगे कहा कि जहां भी मुस्लिमों के साथ ज्यादती हो रही है, वो चिंताजनक है और हम उसके खिलाफ हैं। जम्मू-कश्मीर में मानवाधिकारों के उल्लंघन की भी हम आलोचना करते हैं। उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान की सरकार दुनिया के विभिन्न हिस्सों में पीड़ित मुस्लिमों को राजनयिक और राजनीतिक मदद प्रदान करना जारी रखेगी। जबीहुल्लाह मुजाहिद का यह बयान प्रधानमंत्री के अमेरिकी दौरे के बाद आया है।

चीन, कतर, रूस कर रहे हैं समर्थन

जबीहुल्लाह ने कहा कि ‘पाकिस्तान हमारा पड़ोसी है और अफगानिस्तान को लेकर पाकिस्तान का जो नजरिया रहा है, उसके लिए हम आभारी हैं। अफगानिस्तान अंतरराष्ट्रीय समुदाय के साथ अच्छे संबंध चाहता है। उन्हांेने कहा कि व्यापार और आर्थिक संबंधों का विस्तार करना चाहता है। हमें उम्मीद है कि हमारे पड़ोसी देश अंतरराष्ट्रीय समुदाय के सामने अफगानिस्तान को समर्थन देना जारी रखेंगे। मुजाहिद ने कहा कि ‘कई देशों ने अंतर्राष्ट्रीय समुदाय और अमेरिका के सामने हमारे पक्ष में आवाज उठाई है। कतर, उज्बेकिस्तान और अन्य देशों ने भी अफगानिस्तान के प्रति सकारात्मक रुख अपनाया है। छह दिनों पहले चीन और रूस ने भी संयुक्त राष्ट्र महासभा में हमारे अफगानिस्तान के पक्ष में बात की थी। अफगानिस्तान के संबंध ना केवल अपने पड़ोसी देशों संग बल्कि अंतराष्ट्रीय समुदाय के साथ भी काफी महत्वपूर्ण हैं।

शांति के बाद अब व्यापार विस्तार

जबीहुल्लाह ने ये भी कहा कि पंजशीर में युद्ध खत्म हो चुका है और हम किसी के साथ भी युद्ध या हिंसा नहीं चाहते हैं समय आ चुका है कि अफगानिस्तान में प्रगति और समृद्धि के लिए काम शुरू किया जाए। अफगानिस्तान में शांति के बाद दूसरे देशों के साथ व्यापार बढ़ाने की है। अब अफगानिस्तान को सुधारना है।
तालिबान के प्रवक्ता ने चेतावनी दी कि अगर कोई समूह अफगानिस्तान पर हमला करेगा या सरकार से लड़ेगा तो उनके खिलाफ एक्शन लिया जाएगा। उन्होंने ये भी कहा कि वे अफगानिस्तान को पाकिस्तान के साथ जोड़ने के लिए कदम उठाएंगे। उन्होंने कहा कि सड़क के रास्ते से अफगानिस्तान को पेशावर और पाकिस्तान के विभिन्न शहरों से जोड़ने की कोशिश की जाएगी।

यह भी पढ़ेंः-अफगान में लड़कों ने लड़कियों के लिए दिखायी एकजुटता, तालिबान के इस फरमान को दिखाया ठेंगा

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article