कोरोना संकट के बीच फैली एक और नई बीमारी, यह 34 राज्य हुए प्रभावित, 400 लोग बीमार

524

चीन के वुहान शहर से फैला कोरोना वायरस आज दुनिया के लगभग 180 से अधिक देशों में अपना डेरा जमाए हुए है। हर कोई इस बीमारी से बुरी तरह ग्रसित है। पूरी दुनिया में अब तक कोरोना मरीजों की संख्या डेढ़ करोड़ का आंकड़ा पार कर चुकी है, जिसने वैज्ञानिकों और सरकार की नींद उड़ा रखी है। वहीं इस बीच कोरोना संकट की मार झेल रहे अमेरिका में एक नई बीमारी ने दस्तक दे दी है, जिसने यूएस के करीब 34 राज्यों को अपनी जद में ले लिया है। इस बीमारी के फैलने के पीछे लाल और पीली प्याज है। बताया जा रहा है कि अब तक इस बीमारी की वजह से 400 लोग बीमार हो चुके हैं। अमेरिका की सबसे बड़ी स्वास्थ्य एजेंसी सेंटर्स फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) ने इसको लेकर अलर्ट जारी किया है। साथ ही लोगों को प्याज खाने को लेकर एहतियात बरतने और सतर्क रहने की चेतावनी दी गई है।

ये भी पढ़ें:-कोरोना वैक्सीन बनाने में अमेरिका-ब्रिटेन से आगे निकला रूस! किया बड़ा दावा

अमेरिका के फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन ने बताया कि अमेरिका के 34 राज्यों में संक्रमण फैलाने वाला सैल्मोनेला का सीधा संबंध लाल प्याज से है। CDC ने लोगों को थॉमसन इंटरनेशनल नाम की कंपनी द्वारा सप्लाई किए गए प्याज को न खाने की नसीहत दी है। चूंकि  इस कंपनी द्वारा सप्लाई किए गए प्याज से जिन लोगों ने खाना बनाया है या प्याज को घर में स्टोर किया है। उन लोगों को इस बीमारी ने अपनी चपेट में ले लिया है। इसलिए इसे तुरंत कहीं उपयुक्त जगह पर फेंक दें।

वहीं, CDC ने कहा है कि शुरुआती मामले 19 जून से 11 जुलाई के बीच सामने आए थे. यहां थॉमसन इंटरनेशनल लाल, सफेद, पीली और मीठी प्याज को वापस मंगा लिया गया है. इस कंपनी द्वारा सप्लाई किए गए किसी भी प्याज को खाने या घर में रखने की जरूरत नहीं है।

CDC के मुताबिक अमेरिका के कई राज्यों में लाल और पीली प्याज से सैल्मोनेला बैक्टीरिया का संक्रमण फैल रहा है. यहां के 34 राज्यों में 400 से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं। बताया जा रहा है कि इस बैक्टीरिया की वजह से जब आप बीमार होते हैं तो आपको डायरिया, बुखार और पेट में दर्द जैसे लक्षण दिखाई देते हैं. इसके लक्षण 6 घंटे से लेकर 6 दिन में कभी भी दिख सकते हैं।

कनाडा में भी सैल्मोनेला बैक्टीरिया के संक्रमण के केस सामने आए हैं. इस बैक्टीरिया की वजह से कनाडा में अब तक 60 लोग अस्पतालों में भर्ती हैं। इस बीमारी की चपेट में ज्यादातर मामले 5 साल से अधिक उम्र के बच्चे या 65 साल से अधिक आयु वाले बुजुर्ग में दिखते हैं।

ये भी पढ़ें:-कोरोना पर ब्रेक लगाने के लिए योगी सरकार ने किया बड़ा ऐलान, अब संक्रमितों को दी जाएगी ये मेडिसिन