UNSC में चीन ने चली चाल, आतंकी मसूद अजहर पर नहीं लगी पाबंदी

0
240

पाकिस्तान की सरहदों में बैठा आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर एक बार फिर वैश्विक स्तर पर आतंकी घोषित होने से बच गया। दरअसल बुधवार को सयुंक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) द्वारा वैश्विक आतंकवादी के तौर पर मसूद को चिह्नित करना था। जिसक पर कोई फैसला नहीं आ पाया। हर बार की तरह इस बार भी चीन ने अपने वीटो का इस्तेमाल करते हुए इस प्रस्ताव को रद्द करवा दिया। बता दें कि पुलवामा हमले के बाद सयुंक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की 1267 अलकायदा प्रतिबंध समिति के तहत प्रतिबंधित करने का प्रस्ताव फ्रांस, ब्रिटेन एवं अमेरिका की ओर से 27 फरवरी को रखा गया था।

इस प्रस्ताव को पेश करते हुए 10 दिन का समय दिया गया था। इन 10 दिनों में चीन को अपनी राय पेश करनी थी। यह समय बुधवार को दोपहर (न्यूयार्क के समयानुसार) तीन बजे (भारतीय समयानुसार साढ़े 12 बजे रात बृहस्पतिवार) खत्म हो रही थी। उधर संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन ने ट्वीट करके कहा कि, हम तमाम छोटे-बड़े देशों के आभारी हैं जिन्होंने भारत का समर्थन किया। वही जहां सभी देश  अब मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी देखना चाहते थे वही चीन ने इस फैसला का समर्थन न करते हुए कहा कि उसे मसूद अजहर के खिलाफ जांच करने के लिए और समय चाहिए।

अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस ने पाकिस्तान के आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने के लिए संयुक्त राष्ट्र में एक नया प्रस्ताव पेश किया था। अगर ये प्रस्ताव पास हो जाता और मसूद अजहर वैश्विक आतंकवादी की सूची में शामिल हो जाता। तो मसूद पर वैश्विक यात्रा प्रतिबंध लग जाता। साथ ही उसकी संपत्ति जब्त हो जाती। इसके साथ ही मसूद को किसी भी देश से हथियार खरीदने की मंजूरी नहीं होती और पाकिस्तान को भी मसूद पर सख्त कदम उठाने पड़ते।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here