यूक्रेन की सेना ने रूसी सेना को इन 7 जगहों से खदेड़ा, रूस को लेकर यूक्रेन ने किया चौंकाने वाला दावा

0
325
Russia and Ukraine

Russia Ukraine war: इस समय पूरे विश्व में यूक्रेन और रूस के बीच चल रहे घातक युद्ध को लेकर चर्चाएं बनी हुई है। यूक्रेन और रूस के बीच युद्ध को चलते हुए 1 महीने से भी ऊपर हो गए हैं। लेकिन कहीं पर भी इस युद्ध के रुकने की बात सामने नहीं आ रही है। इस युद्ध के कारण यूक्रेन पूरी तरीके से तबाह हो चुका है। इस युद्ध के कारण उसको भी काफी नुकसान उठाना पड़ा है। रूस यूक्रेन पर लगातार कब्जे की कोशिश कर रहा है। लेकिन रूस का यह सपना अभी तक पूरा नहीं हो पाया है। रूस यूक्रेन पर अपना हमला लगातार घातक करता जा रहा है। इस युद्ध के कारण पूरा विश्व डरा हुआ है। सभी को आशंका है कि यह युद्ध कहीं विश्व युद्ध में ना परिवर्तित हो जाए। इसको लेकर दुनिया के अनेक देश इन दोनों देशों के बीच शांति को लेकर बात कर रहे हैं। राष्ट्रपति पुतिन की सेना लगातार यूक्रेन पर हमला कर रही है। लेकिन कई जगह से यूक्रेन के सैनिकों ने भी रूस के सैनिकों को पीछे धकेल दिया है।

7 बार रूसी हमले को नाकाम किया यूक्रेन की फौज ने

रूस और यूक्रेन के बीच चल रहे युद्ध को लेकर लगातार नए-नए दावे किए जा रहे हैं। इसी बीच यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंस्की ने एक और दावा किया है। यूक्रेन के राष्ट्रपति ने कहा है कि डॉनबास के कई इलाकों से जिनको रोशनी अलग देश की मान्यता दे दी थी उसमें यूक्रेन की सेना ने रूस के हमले को 7 बार नाकाम किया है। रूस के राष्ट्रपति पुतिन ने सोचा था कि हम जल्द ही यूक्रेन पर कब्जा कर लेंगे। लेकिन यूक्रेन ने भी बता दिया कि वह एक कमजोर देश नहीं रहा है। यूक्रेन को कई देशों से लगातार मदद दी जा रही है। जिससे यूक्रेन रूस को मुंहतोड़ जवाब दे रहा है और रूस को भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है।

31 मार्च तक यूक्रेन ने रूस का इतना किया नुकसान

साथ ही यूक्रेन ने एक और दावा किया है। इस दावे में यूक्रेन ने कहा है कि यूक्रेन में रूस की सेना के लगभग 17 हजार जवानों को मौत के घाट उतार चुका है। इसके साथ उसने यह भी कहा है यूक्रेन ने रूस के 135 फाइटर प्लेन और 614 टैंक पूरी तरीके से तबाह कर दिए हैं। इसके अलावा 311 तो पर भी नष्ट हो गई हैं। इसे देख कर लग रहा है कि यूक्रेन को ही नहीं बल्कि इस युद्ध के कारण रूस को भी भारी नुकसान उठाना पड़ा है।

इसे भी पढ़ें-अब बढ़ रहे कोरोनामुक्त भारत की ओर नए कदम, जानें आज से क्या होंगे नए बदलाव?