corona virus (3)

पिछले एक साल से पूरी दुनिया में कोरोना का कहर फैला हुआ है। जिसके चलते पूरी दुनिया में बहुत से लोगों की जान चली गई। लेकिन वैक्सीन आने के बाद उम्मीद की जा रही है कि जल्द से जल्द टीकाकरण के बाद कोरोना कम हो जाएगा। जिसके बाद फिर से जिंदगी पटरी पर लौटेगी। हालांकि, अब ऐसा कहना मुश्किल जान पड़ रहा है। कोरोना के कारण एक बार फिर से कई देशों में कहर ढाना शुरू कर दिया है। दक्षिण अफ्रीका में शनिवार को कोविड के 26 हजार नए केस दर्ज किए गए। भारत में अब तक एक दिन के भीतर इतने अधिक नए मामले दर्ज नहीं किए गए थे।

कोरोना वायरस में बढ़ोतरी ने दक्षिण अफ्रीका की स्वास्थ्य व्यवस्था को हिला कर रख दिया है। हॉस्पिटल्स में बिस्तर के साथ ही स्वास्थ्यकर्मियों की भी कमी के कारण सरकार को आंशिक लॉकडाउन लगाना पड़ा है। दक्षिण अफ्रीका के नेशनल डिपार्टमेंट ऑफ हेल्थ के अनुसार भारत में कोरोना से कुल संक्रमितों का आंकड़ा अब 2 लाख को पार कर चुका है तो वहीं 61 हजार 500 लोगों की जान जा चुकी है। सरकारी आंकड़ों के अनुसार, भारत में अभी तक 33 लाख लोगों को कोरोना का टीका लगा दिया है।

कोरोना की शुरुआत से लेकर अब तक भारत में कुल 17 लाख लोग इस महामारी से ठीक हो चुके हैं। दक्षिण अफ्रीका में संक्रमण के केस बढ़ने के पीछे वैक्सीनेशन की धीमी गति को बड़ा कारण बताया जा रहा है। इसी वर्ष सरकार को दूषित हो चुकी जॉनसन ऐंड जॉनसन की 20 लाख कोरोना के टीका को नष्ट करना पड़ा था।

शनिवार को टीके की किल्लत से निपटने के लिए दक्षिण अफ्रीका ने चीन की सिनोवैक वैक्सीन को भी अनुमति दे दी थी। आपको बता दें कि दक्षिण अफ्रीका में कोरोना के मामलों में बढ़ोतरी के पीछे डेल्टा वैरिएंट को कारण माना जा रहा है। भारत के स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि इस बार संक्रमण दूसरी लहर से भी अधिक फैल सकता है।

इसे भी पढ़ें:- बिहार पुलिस ने किया सेक्स रैकेट का भांडाफोड़, आपत्तिजनक हालत में युवक-युवतियों को किया गिरफ्तार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here