taliban 5

काबुल। अफगानिस्तान पर तालिबान का कब्जा होने के क्रूरता का क्रम लगातार जारी है। अफगानिस्तान के जलालाबाद में तालिबानी लड़ाकों ने सड़क पर खुलेआम फायरिंग की गई है। बताया जा रहा है कि अफगानिस्तान के लोगों ने अफगानिस्तान का राष्ट्रीय झंडा दफ्तरों पर लगाए रखने की मांग कर रहे थे। अफगानी झंडा को लेकर हो रहे प्रदर्शन में सड़क पर भीड़ इकट्ठा हो गयी। भीड़ को तीतर-बीतर करने के लिए तालिबान ने लोगों पर फायरिंग कर दी जिससे लोगों मंे भगदड़ मच गयी। तालिबान ने निहत्थे लोगों पर कई राउंड गोलियां चलाईं गयी। लोग शांतिपूर्ण तरीके से केवल झंडे को लेकर अपनी बात कर रहे थे। गोलीबारी की इस घटना में कई लोगों के घायल होने की सूचना है। इससे पहले तालिबानी लड़ाकों ने एयरपोर्ट से भीड़ को वापस भेजने के लिए फायरिंग की थी।

मुल्ला मोहम्मद रसूल रिहा
पाकिस्तान सरकार ने तालिबान के सक्रिय सदस्य मुल्ला मोहम्मद रसूल को रिहा कर दिया है। मुल्ला मोहम्मद रसूल पिछले पांच साल से जेल में बंद था। तालिबान से अलग होने और एक नया गुट बनाने के बाद उसे गिरफ्तार किया गया था। अब वह तालिबान के पाले में लौट आया है।

काबुल में हामिद करजई से मिले तालिबानी नेता
ज्ञात हो कि काबुल में ही तालिबानी नेताओं ने हामिद करजई से मुलाकात की। तालिबान की ओर से अनस हक्कानी ने इस बैठक की अगुवाई की। हामिद करजई के अलावा अब्दुल्लाह अब्दुल्लाह भी बैठक में मौजूद रहे। तालिबान ने हामिद करजई को दोहा में होने वाली बैठक में बुलाया है, जहां पर सरकार बनाने को लेकर चर्चा हुई।

अंतरराष्ट्रीय समुदाय से मान्यता की मांग
अफगानिस्तान पर कब्जे के बाद तालिबान के सामने परेशानी खड़ी हो चुकी है। तालिबान मीडिया के सामने आ कर मान्यता देने की गुजारिश कर रहा है। काबुल से तालिबान के प्रवक्ता जबीहुल्ला मुजाहिद ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि तालिबान को अंतरराष्ट्रीय समुदाय से मान्यता मिलनी चाहिए। इस दौरान मुजाहिद ने कहा कि अफगानिस्तान में मौजूद दूतावासों को नुकसान नहीं पहुंचाया जाएगा। उन्होंने महिलाओं को शरिया कानून के तहत अधिकार और आजादी देने की भी बात कही गई थी। माना जा रहा है कि तालिबान कई चेहरे के साथ दुनिया के सामने आ रहा है।

यह भी पढ़ेंःतालिबान ने हथियारों से भरा ट्रक पाकिस्तान को किया वापस, इन हथियारों ने भारत की बढ़ाई मुश्किलें