अब ताइवान ने नियुक्त किया अमेरिका प्रशिक्षित रक्षा मंत्री तो चीन हुआ लाल…

plane-

दिल्ली। अपने पड़ोसियों और दुनिया से दुश्मनी पालने वाला चीन दिनोदिन घिरता जा रहा है। उसे घेरने के लिए ताइवान ने जवाबी कार्रवाई तेज कर दिया है। ताइवान पर बार-बार अपना शक्ति प्रदर्शन करने वाले चीन के खिलाफ ताइवान ने रणनीतिक तैयारियों को अंजाम देना शुरू कर दिया है। ताइवान को धमकाने वाले चीन ने ताइवान के आसपास सैन्य गतिविधि बढ़ा दी है। ताइवान ने देश में अमेरिका प्रशिक्षित रक्षा मंत्री को नियुक्त कर दिया है। अमेरिका प्रशिक्षित रक्षा मंत्री नियुक्त किए जाने से बौखलाए चीन ने अपनी खीझ उतारने के लिए आठ लड़ाकू विमानों ने ताइवान के एयर स्पेस में घुसने की हिमाकत की है। चीन की ताइवान के रक्षा मंत्रालय ने बताया कि चार चीनी जे -16 और चार जेएच -7, साथ ही एक इलेक्ट्रॉनिक युद्धक विमान, दक्षिण चीन सागर के ऊपरी हिस्से में ताइवान-नियंत्रित प्रतास द्वीपों के पास, अपनी हवा के दक्षिण-पश्चिमी क्षेत्र में उड़ते दिखाई पड़े। चीन की इस धौंस के बाद ताइवान के विमानों ने पीछा किया। घुसपैठ की जानकारी होते ही ताइवान की वायु सेना ने उनका पीछा किया और रेडियो पर चेतावनी जारी की। इसके बाद ताइवान ने इलाके में निगरानी के लिए एयर डिफेंस सिस्टम तैनात कर दिया।

यह भी पढ़ेंः-मुश्किल दौर में फिर नेपाल ने किया भारत की ओर रुख, Prachanda ने मांगा समर्थन

हाल के महीनों में चीन ने ताइवान के आसपास अपनी सैन्य गतिविधि बढ़ा दी है। लोकतांत्रित ताइवान पर चीन अपना दावा जताता है। चीन का कहना है कि ताइवान उसका क्षेत्र है और एक दिन उसे मुख्य भूमि के साथ मिला लिया जाएगा। ज्ञात हो कि ताइवान ने कुछ दिन पहले ही अपने रक्षा विभाग में बड़ा फेरबदल किया है। ताइवान ने सेना के आधुनिकीकरण और खुफिया तंत्र को मजबूत करने के लिए अमेरिका में प्रशिक्षित रक्षा मंत्री की नियुक्ति की है।

इससे पहले भी बीते 7 फरवरी को ताइवान के रक्षा मंत्रालय ने बताया था कि एक चीनी टोही विमान ने ताइवान के वायु रक्षा पहचान क्षेत्र के दक्षिणी-पश्चिमी खंड में प्रवेश किया था। फोकस ताइवान ने सूचना दी कि चीनी विमान ने ताइवान और डोंग्शा द्वीप समूह के बीच हवाई क्षेत्र में प्रवेश किया जो दक्षिण चीन सागर में ताइवान द्वारा नियंत्रित है। ताइवान सेना ने तब तक चीनी फाइटर जेट का अपने फाइटर जेट से पीछा किया। जब तक वह सीमा से छोड़ भाग नहीं गये। इस दौरान वह रेडियो पर लगातार वार्निंग देते रहे और एयर डिफेंस को मोबलाइज करते रहे।

यह भी पढ़ेंःपैंगोंग के बाद आज हॉट स्प्रिंग्स, गोगरा और देपसांग से भी सैनिकों को पीछे हटाने की बनेगी रणनीति

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *