मसूद का सहारा बने चीन को अमेरिका ने लताड़ा, ‘आतंक को दूसरे रास्ते से सिखाएंगे सबक’

0
352

पाकिस्तान की सरहदों में बैठा आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर एक बार फिर वैश्विक स्तर पर आतंकी घोषित होने से बच गया। दरअसल बुधवार को सयुंक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) द्वारा वैश्विक आतंकवादी के तौर पर मसूद को चिह्नित करना था। जिसक पर कोई फैसला नहीं आ पाया। हर बार की तरह इस बार भी चीन ने अपने वीटो का इस्तेमाल करते हुए इस प्रस्ताव को रद्द करवा दिया।

जिसका बाद अब चीन के खिलाफ भारत ने कठोर आपत्ति जताई है। जिसका साथ अब अमेरिका ने भी दिया है। अमेरिका ने अपने बयान में कहा कि अगर चीन लगातार इस तरह की अड़चन बनता रहा, तो जिम्मेदारी देशों को कोई और कदम उठाना पड़ेगा। इसके आगे अमेरिका ने कहा कि पाकिस्तान चीन की मदद से कई बार जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को ग्लोबल घोषित होने से बचाता रहा है। ये चौथी बार है जब चीन ने इस तरह से मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकी घोषित होने से बचाया है।

इसके आगे कठोर शब्दों का इस्तेमाल करते हुए अमेरिका ने कहा कि अगर इसी तरह चीन मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकी घोषित होने से बचाता रहा तो सुरक्षआ परिषद के अन्य सदस्यों को सख्त रुख अपनाना पड़ेगा। लेकिन हालात यहां तक नहीं आने चाहिए।

वही चीन की हरकत के बाद भारत की तरफ से भी बयान जारी किया गया। भारत की ओर से कहा गया कि चीन के इस कदम से हम बहुत निराश है लेकिन जिन देशों ने भारत का साथ दिया है उन सभी का धन्यवाद।

अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस ने पाकिस्तान के आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने के लिए संयुक्त राष्ट्र में एक नया प्रस्ताव पेश किया था। अगर ये प्रस्ताव पास हो जाता और मसूद अजहर वैश्विक आतंकवादी की सूची में शामिल हो जाता। तो मसूद पर वैश्विक यात्रा प्रतिबंध लग जाता। साथ ही उसकी संपत्ति जब्त हो जाती। इसके साथ ही मसूद को किसी भी देश से हथियार खरीदने की मंजूरी नहीं होती और पाकिस्तान को भी मसूद पर सख्त कदम उठाने पड़ते।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here