क्या कोरोना से भी ज्यादा खतरनाक है चीन मे फैला ये नया वायरस, जानें इसके लक्षण

557
china

दुनियाभर में कोरोना वायरस ने कोहराम मचा दिया है। इस वायरस की चपेट में अब तक 1 करोड़ 87 लाख से भी ज्यादा लोग आ चुके है। अब तक कई रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि कोरोना वायरस चीन के वुहान शहर से फैला है क्योंकि सबसे पहले कोरोना के मरीज वुहान शहर से ही सामने आए थे। जिसके बाद दुनियाभर में चीन की आलोचना हो रही है लेकिन अब चीन में एक और नए वायरस ने दस्तक दे दी है। जिससे पूरे चीन में हड़कंप मच गया है। इस वायरस का नाम SFTS है। इस वायरस की चपेट में आने की वजह से अब तक 7 लोगों की मौत हो गई है। तो वहीं, 60 से ज्यादा लोग वायरस से संक्रमित हो गए है।

इन इलाकों में फैला वायरस
ग्लोबल टाइम्स के हवाले से मिली खबर के मुताबिक, पूर्वी चीन के जियांगशू और अनहुई प्रांत में एक-दो नहीं बल्कि दर्जनों लोग अचानक से बीमार पड़ रहे हैं। दावा किया जा रहा है कि चीन में ये वायरस लोगों में एक कीड़े (Tick) के काटने से फैल रहा है। जिस वजह से लोग अचानक से ही तेजी से बीमार हो रहे है। इस वायरस का संक्रमण पूर्वी चीन के जियांगशू और अनहुई में ज्यादा फैल रहा है। जियांगशू में 37 लोग बीमार पड़े हैं तो वहीं अनहुई में 23 लोग बीमारी से ग्रसित हो गए हैं। जिसके चलते इस वायरस के लक्षण जानना भी बेहद जरूरी है। तो अब आपको इस वायरस से जुड़ी जानकारी देते है और इसके लक्षण के बारे में बताते है।

कैसे फैलता है SFTS वायरस
चीन में फैले इस वायरस को SFTS (Severe fever with thrombocytopenia syndrome) नाम दिया गया है। इसे Tick Borne डिजीज भी कहा जाता है। जिसने साल 2010 में पहली बार दस्तक दी थी। इस दौरान जापान और कोरिया में इस वायरस के मामले देखने को मिले थे। वैज्ञानिकों के मुताबिक, ये वायरस पशुओं से मनुष्य के शरीर में आता है। पशुओं के शरीर पर चिपकने वाले किलनी (टिक) जैसे कीड़े से मनुष्य में फैल सकता है। इसके बाद ये वायरस एक से दूसरे व्यक्ति के शरीर में फैल जाता है। हालांकि इस वायरस की वजह से मनुष्य में मौत की दर तेजी से बढ़ सकती है वहीं जानवरों में वायरस की वजह से मौत का आंकड़ा कम है। जानकारी के अनुसार, चीन में मौत की दर 10-16% के बीच है।

वायरस के लक्षण
SFTS वायरस से संक्रमित मरीज में काफी तेज़ बुखार, खाना नहीं पचना, उल्टी दस्त, मांसपेशियों में दर्द, शरीर में ल्यूकोसाइट और प्लेटलेट की कमी, शुरू में खांसी और बुखार और न्यूरोलॉजिकल बीमारी के लक्षण देखने को मिले है।लेकिन इस वायरस पर रिसर्च जारी है ताकि आने वाले समय में इससे जुड़ी जानकारी मिल सके।

चीन ने दी चेतावनी
कोरोना वायरस का भयानक रूप देखने की वजह से विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) SFTS वायरस पर पहले ही एक्टिव हो गया है। डब्ल्यूएचओ के दो विशेषज्ञ चीन के दौरे पर है। इसके अलावा संयुक्त राष्ट्र की स्वास्थ्य एजेंसी कोरोना वायरस के स्रोत का पता लगाने की योजना पर बातचीत कर रही है। हालांकि चीनी मीडिया ने बुधवार को इस वायरस की जानकारी देते हुए चेतावनी दी। चीन ने आशंका जताई की ये वायरस मनुष्यों के बीच तेजी से संक्रमण फैला सकता है। पूर्वी चीन के जियांग्सू प्रांत में साल की पहली छमाही में एसएफटीएस वायरस (SFTS Virus) से 37 से अधिक लोग संक्रमित हुए हैं।

बता दें कि जब चीन में कोरोना वायरस फैला था तो वहां कि सरकार ने दुनिया से इस बात को छुपाया था। कई रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि चीन में कोरोना वायरस ने साल 2019 के आखिरी महीनों में ही दस्तक दे दी थी लेकिन चीन ने इसकी जानकारी दुनिया को नहीं दी। जिसका अंजाम आज हर कोई भुगत रहा है। इसी वजह से इस नए वायरस को लेकर चीन भी चिंतित है।

ये भी पढ़ें:-वैज्ञानिकों की इस भविष्यवाणी से खौफ में आए दुनियाभर के कोरोना मरीज, ये है बड़ी वजह