Friday, December 3, 2021

पूर्व वित्त मंत्री ने किया खुलासा, तालिबानियों से ऐसे हार गयी तीन लाख सैनिकों वाली सेना

Must read

- Advertisement -

काबुल। अफगानिस्तान पर तालिबान का हथियार के बल पर कब्जे के बाद दुनिया में यही सवाल उठा था कि आखिर तीन लाख से ज्यादा सैनिकों वाली फौज कुछ हजार तालिबानियों से कैसे हार गई। तालिबान का कब्जा और अफगानिस्तान फौज का हटना दुनिया के लिए रहस्यात्मक सवाल पैदा कर गया। अशरफ गनी सरकार में वित्त मंत्री रहे खालिद पायेंडा का कहना है कि अफगान सैनिकों की गिनती कागजों पर जितनी बड़ी थी असलियत उससे काफी छोटी थी। उन्होंने स्वीकार किया कि सेना की सही स्थिति और संख्या छिपायी गयी थी। यही वजह रही कि तालिबानी लड़ाकों ने महज कुछ ही दिनों में अफगानिस्तान पर कब्जा कर लिया। खालिद पायेंडा ने अफगानिस्तान की चुनी हुई सरकार की हार के लिए भ्रष्ट सैन्य अधिकारियों को दोषी बताया है। उन्होंने कहा कि भ्रष्ट अधिकारियों ने सरकार और देश को धोखे में रखा। उन्होंने कागजों पर तीन लाख से ज्यादा सैनिकों की फौज खड़ी कर डाली थी, जबकि असलियत इससे बिल्कुल अलग थी। इन ‘घोस्ट सैनिकों‘ का पैसा जनरलों की जेब में जाता रहा और इसके अलावा, वो तालिबान से भी पैसा लेते रहे। तालिबान से भी भ्रष्ट अधिकारी पैसे ले रहे थे।

टाॅप जनरलों के इशारे पर हुआ खेल

- Advertisement -

पूर्व वित्त मंत्री ने कहा कि केवल सेना ही नहीं, पुलिस के मामले में भी यही किया गया। अफगानिस्तान के खिलाफ साजिश और भ्रष्टाचार की आदत के चलते उच्च अधिकारियों ने यह दर्शाया कि अफगानिस्तान के पास तालिबान को हारने के लिए पर्याप्त शक्ति है। उन्होंने कहा कि टॉप जनरलों के इशारे पर सारा खेल किया गया। तालिबान का मनोबल बढ़ता गया। जो सैनिक असल में मौजूद ही नहीं थे, उन्हें कागजों पर दर्शाया गया और उनकी सैलरी से भ्रष्ट अफसरों की जेब भरी गई।

महज इतने सैनिक थे अफगानिसतान के पास

खालिद पायेंडा ने कहा कि यदि अधिकारियों के दावों की असलियत पता लगाने की कोशिश की जाती तो शायद स्थिति कुछ और होती। अफगानिस्तान के पास मुश्किल से 40,000 से 50,000 सैनिक ही थे, जिन्हें कागजों पर 3 लाख से अधिक दिखाया गया। यह आंकड़ा पूरी तरह से गलत साबित हुआ। ज्ञात हो कि तालिबान ने कुछ ही दिनों में अफगानिस्तान पर कब्जा जमा लिया था। इसके बाद अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन की भी आलोचना हुई थी, क्योंकि उन्होंने कहा था कि अफगान सेना बाकी देशों की सेना की तरह मजबूत है और अपनी सुरक्षा करना जानती है।

यह भी पढ़ेंः-अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जे के बाद गूंजा  हरे रामा, हरे कृष्णा, मंदिर में मनाई गई नवरात्रि

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article