Saturday, January 16, 2021

टेक प्रतिभाओं को बुला रहा है दुनिया का सबसे खुशहाल देश फिनलैंड

दिल्ली। दुनिया के देशों की जीवन शैली, आय और लोगों का जीवन स्तर के अनुसार खुशहाल देश की रेटिंग जारी होती है। वर्तमान में सबसे खुशहाल देश फिनलैंड ने टेक पेशेवरों को तीन महीने तक रहने का निमंत्रण दिया है। टेक पेशेवरों के साथ उनका परिवार भी आकर रह सकता है। इस योजना के जरिए फिनलैंड दुनिया की प्रौद्योगिकी क्षेत्र की प्रतिभाओं को आकर्षित करना चाहता है। अगर पेशेवरों को फिनलैंड भा गया तो वे यहां स्थायी रूप से बस भी सकते हैं। फिनलैंड ने अपनी माइग्रेशन योजना के तहत इस ऐतिहासिक पहल को अभियान के तौर पर शुरू किया है। फिनलैंड को एक महीने में ही 5300 आवेदन आ चुके हैं। आवेदन करने वालों में 30 फीसदी पेशेवर अकेले अमेरिका और कनाडा के हैं। 50 से अधिक ब्रिटिश पेशेवरों ने आवेदन किए हैं। आवेदन करने वाले ज्यादातर पेशेवर परिवार वाले हैं और फिलहाल अपने वर्तमान नियोक्ता के पास ही रिमोट वर्किंग के माध्यम से काम करना चाहते हैं। 800 आवेदक उद्यमी हैं जो अपना स्टार्टअप खोलने की इच्छा रखते हैं। ऐसे भी लोग हैं जो निवेशक और नौकरी खोज रहे पेशेवर हैं। इस अभियान की शुरुआत करने वाले जोहाना हुर्रे का कहना है कि दुनिया में बहुत से लोग दूसरे देशों में जाकर बसना चाहते हैं। ऐसे पसंदीदा देशों की सूची में अब तक फिनलैंड का स्थान शीर्ष पर नहीं है। हम उस स्तर तक पहुंचना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि हमें भरोसा है कि जो फिनलैंड आकर कुछ समय तक रहेगा। उसे हमारा समाज और सरकारी सुविधाएं इतनी पसंद आएंगी कि वह यहीं रह जाना चाहेगा। पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा योग्यता वाले लोगों की मांग है।

यह भी पढेंः-यह प्रदेश सरकार भी लव जेहाद के खिलाफ हुई सख्त, कैबिनेट ने दी मंजूरी

इसी के तहत हम अपने प्रौद्योगिकी क्षेत्र में विश्व की श्रेष्ठ प्रतिभाओं को मौका देना चाहते हैं। सरकार ने इस योजना में यह भी प्रावधान किया है कि जिन पेशेवरों को देश में तीन महीने तक रुकना है। अगर उन्हें यहां रहना भाता है, तो वे स्थायी रूप से फिनलैंड में निवास के विकल्प पर भी विचार कर सकते हैं। सरकार उन्हें स्थायी निवास दिलवाने में मदद भी करेगी। फिनलैंड दुनिया के उन चुनिंदा देशों में से एक है, जिसने कोरोना महामारी पर बहुत अच्छी तरह से काबू पाया। इस देश में अब तक संक्रमण के मामले और मौतें कम हुई हैं। महामारी के दौरान सुरक्षित व कम प्रतिबंध वाले माहौल का हवाला देते हुए भी फिनलैंड विदेशी पेशेवरों को लुभा रहा है।

सरकार 90 दिन तक यहां आकर रहने वाले विदेशी पेशेवरों को सरकार घर, सरकारी दस्तावेज, बच्चों के लिए डे-केयर व स्कूल में दाखिले की सुविधा, रिमोट वर्किंग के लिए व्यवस्था जैसे अहम प्रबंध करवाएगी। फिनलैंड ने हाल के वर्षों में अपने यहां प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में मजबूत अर्थव्यवस्था बनायी है। यहां प्रति कैपिटा दुनिया के सबसे ज्यादा स्टार्टअप मौजूद हैं। प्रौद्योगिकी क्षेत्र की बहुराष्ट्रीय कंपनियां जैसे गूगल, बेयर, जीई हेल्थकेयर आदि ने अपने कैंपस यहां खोले हैं। सरकार का दावा है कि 2021 में यहां 50 हजार नई नौकरियां पैदा होंगी।

लगातार तीन साल से फिनलैंड को दुनिया का सबसे खुशहाल देश चुना जा रहा है। फिनलैंड सभी के लिए मुफ्त स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध है। बच्चों की परवरिश के लिए सरकार बहुत आसानी से अवकाश देती है। लोग काम व परिवार के बीच संतुलन बनाते हैं। पर्यावरण प्रदूषण का स्तर बहुत कम होने से लोगों का स्वास्थ्य बहुत अच्छा हैं। अब फिनलैंड को ज्ञान आधारित समाज बनाने की ओर बढ़ने के लिए प्रतिभाओं को आमंत्रित किया है।

यह भी पढेंः-गोद लिए गए इन सिलेब्रिटीज ने अपने माता-पिता का नाम किया रोशन

Stay Connected

1,097,092FansLike
10,000FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles