पाकिस्तान पर ब्लैकलिस्ट होने का खतरा, मदद के लिए गिड़गिड़ाए इमरान खान

0
356

इन दिनों पाकिस्तान के पीएम इमरान खान परेशान नजर आ रहे हैं और इसका कारण है भारत. बालाकोट में भारतीय वायुसेना की कार्यवाही के बाद से ही पाकिस्तान परेशान नजर आ रहा है, जिसके चलते अब फाइनेंसियन एक्शन टास्क फोर्स यानि एफएटीएफ में भारत और पाक आमने-सामने आ गए हैं. एफएटीएफ में पाक की तरफ से कहा गया है कि उसक प्रति भारत का रवैया ठीख नहीं है, वो बराबर दुश्मनी बरत रहा है. इसलिए उसे संस्था की रिव्यू बॉडी से हटा दिया जाए, लेकिन पाकिस्तान ये भूल रहा है कि वो खुद दुश्मनी निभाते हुए भारत में आंतिकयों द्वार आतंकी गतिविधियों को अंजाम दे रहा है.

पाक पर ब्लैकलिस्ट का खतरा
पाकिस्तान पुलवामा आतंकी हमले के बाद विश्व में अलग-थलग पड़ा हुआ है. साथ ही पाक पहले से ही ग्रे-लिस्ट में है. वहीं भारत ने अपना पक्ष रखते हुए कहा है कि अपनी सरजमीं से पाक आतंकी गतिविधियों को अंजाम देता है, इसलिए एफएटीएफ में पाकिस्तान को ब्लैकलिस्ट करें. पाकिस्तान के वित्त मंत्री असद उमर ने एफएटीएफ के अध्यक्ष मार्शल बिलंगसलीआ को चिट्ठी लिखते हुए अनुरोध किया है कि एशिया प्रशांत संयुक्त समूह के सह अध्यक्ष पद से भारत को हटाया जाए.

क्या लिखा है अपनी चिट्ठी में 
पाक के वित्त मंत्री असद उमर ने अपने पत्र में लिखा है कि ‘पाक के प्रति भारत का रवैया जगजाहिर है. हाल में पाकिस्तान के क्षेत्र में बम गिराया जाना भारत के दुश्मनी वाले रवैये का एक और उदाहरण है.’ वहीं एफएटीएफ के निर्देश पर पाकिस्तान ने कार्रवाई करते हुए जैश-ए-मोहम्मद समेत प्रतिबंधित संगठनों के एक समूह को उच्च जोखिम श्रेणी में डालने का फैसला किया है. हालांकि, माना जा रहा है कि पाक अपनी नापाक हरकतों से बाज नहीं आ रहा है. उसने ये सब मजबूरी में किया है.

इससे पहले पिछले साल जून में पाकिस्तान को एफएटीएफ ने ग्रे लिस्ट में ये कहते हुए डाला था कि पाक आतंकी गतिविधियों पर रोक लगाने में नाकाम रहा है. ऐसे में उसके खिलाफ कार्रवाई बनती है. ये भी पढ़ें: जैसलमेर में पुलिस ने गिरफ्तार किया संदिग्ध, पाकिस्तान में वीडियो कॉल करता था

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here