अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी गिरती साख को देखते हुए पाकिस्तान ने आतंकियों पर ले लिया ये कड़ा एक्शन

83

दुनियाभर में आतंकवाद के नाम से जाना जाता पाकिस्तान अब अपनी साख को बचाने के लिए आतंकियों के आकाओं पर एक्शन लेने के आखिरकार मजबूर हो ही गया। दरअसल अंतरराष्ट्रीय स्तर पर जिस तरह से पाकिस्तान को आतंकी देश घोषित करने की कवायद जोर पकड़ रही है उसने पाक के वजीरे-आलम इमरान खान की टेंशन और बढ़ा दी है। इस बीच खबर आ रही है कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने अंतराष्ट्रीय स्तर पर अपनी गिरती साख को बचाने के लिए आतंकी संगठनों और उनके आकाओं पर कड़ा एक्शन लेने की योजना तैयार कर ली है। खूफिया रिपोर्ट के अनुसार इमरान सरकार ने आतंकियों की सभी संपत्तियों को जब्त करने और बैंक खातों को सील करने के आदेश दिये है। बता दें कि (FATF) की ‘ग्रे लिस्ट’ से बाहर आने के लिए इमरान सरकार ने यह कदम उठाया है। (FATF) यानि अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद वित्तपोषण पर निगरानी रखने वाली संस्था जिसने पाकिस्तान के 88 आतंकवादी संगठनों पर प्रतिबंधित लगाया हुआ है।

ये भी पढ़ें:-पाकिस्तान के बाशिंदो ने उड़ाया इमरान खान का मजाक, कहा- ‘नक्शा नहीं नशा बदलो’ जमकर पीटा

बताया जा रहा है कि FATF की सूची में हाफिज सईद, मसूद अजहर और दाऊद इब्राहीम जैसे खूंखार आतंकवादियों के नाम शामिल हैं, जिन पर संघीन मामलों में इंटरनेशनल कोर्ट में केस भी चल रहा है। बता दें कि पेरिस स्थित एफएटीएफ

ने जून, 2018 में पाकिस्तान को ‘ग्रे लिस्ट’ में डाला था और इस्लामाबाद को 2019 के अंत तक कार्ययोजना लागू करने को कहा था लेकिन कोरोना महामारी के चलते इसकी समय सीमा बढ़ा दी गई थी।

हालांकि अब फिर से पाकिस्तान पर अंतरराष्ट्रीय सरकार की तरफ से जोर दिया जा रहा है, इन आतंकियों पर कड़ी कार्यवाई करे नहीं तो पाकिस्तान भी आतंकियों की तरह ब्लैकलिस्ट में आ जाएगा। इसलिए इमरान सरकार की टेंशन इस

मामले में और ज्यादा बढ़ती दिख रही है। खबर के अनुसार सरकार ने इन संगठनों और आकाओं की सभी चल और अचल संपत्तियों को जब्त करने और उनके बैंक खातों को सील करने के आदेश दिये हैं।

बताया जा रहा है कि पाकिस्तान में हाफिज सईद, अजहर, मुल्ला फजलुल्ला (उर्फ मुल्ला रेडियो), मुहम्मद यह्या मुजाहिद, जकीउर रहमान लखवी, नूर वली महसूद, अब्दुल हकीम मुराद,  उजबेकिस्तान लिबरेशन मूवमेंट के फजल रहीम शाह,

तालिबान नेताओं जलालुद्दीन हक्कानी, खलील अहमद हक्कानी, यह्या हक्कानी, इब्राहीम और उनके सहयोगियों को ब्लैकलिस्ट करने की सूची में डाला गया है।

इन आतंकियों पर 26/11 हमले, 1993 मुंबई सीरियल बम धमाका जैसे गंभीर मामले इंटरनेशनल कोर्ट में दर्ज है। इसलिए इन्हें जड़ से समाप्त करने के लिए पहले इनका दाना पानी बंद करने की कवायद शुरू की गई है। रक्षा सूत्रों का कहना है कि FATF ने यह बहुत बढ़िया फैसला इन आतंकियों को ब्लैकलिस्ट करने का लिया है। इससे आतंकी गतिविधियों में काफी कमी आएगी।

ये भी पढ़ें:-पाकिस्तान के मंत्री ने भारतीय मुसलमानों के लिए कही बड़ी बात, परमाणु हमले की दी धमकी