तानाशाह के खौफ में कोरोना, नहीं मिला एक भी मामला, हर चीनी शख्स को गोली से उड़ाने का था आदेश

53

किस कदर पूरी दुनिया इस अदृश्य कोरोना वायरस से जंग लड़ रही है, यह तो हर कोई जानता है, लेकिन क्या आपको पता है कि एक देश ऐसा भी है, जहां पर कोरोना दस्तक देने से पहले एक नहीं बल्कि हजार मर्तबा सोचता है। अब इसे कोरोना का ही खौफ कहेंगे कि ऐसे वक्त में जब पिछले 6 महीने से कोरोना ने पूरी दुनिया में आतंक मचा रखा है, लेकिन उत्तर कोरिया में यह अभी दस्तक भी नहीं दे पाया है। ऐसी स्थिति में जब पूरी दुनिया में इस कोरोना वायरस की वजह से लाशों ढेर बिछ रहे हैं। बेतहाशा लोग संक्रमित हुए है, लेकिन वहां पर कोरोना के एक भी मामले सामने नहीं आए हैं। आखिर क्या है इसके पीछे की वजह, जानने के लिए पढ़िए हमारी ये रिपोर्ट

बेहद खौफनाक है फरमान
..तो वहां पर कोरोना के एक भी मामले सामने नहीं आए हैं। इसके पीछे की वजह जानने से पहले आपको उस फरमान को जानना होगा, जो तनाशाह शासक किम जोंग उन ने अपने देश में दिए हैं। बता दें कि जब कोरोना पूरी दुनिया में अपने शैशव काल में था, तभी उत्तर कोरिया ने यह फरमान जारी कर दिया था कि अगर कोई चीनी व्यक्ति बार्डर पर या फिर देश के किसी भी हिस्से में दिखे थे, तो उसे फौरन गोली मार दिया जाए। किम जोंग उन ने आइसोलेशन , मास्क, सोशस डिस्टेंसिंग जैसे नियमों को तो बाद में तरजीह दी, मगर उससे अपने इस फरमान को मुकम्मल जमीन पर उतारने का आदेश दिया है।

उन्होंने दो टूक अपने सैनिकों और कारिंदों से कह दिया कि अगर कोई चीनी व्यक्ति दिखता है तो उसे फौरन गोली मार दिया जाएगा। भले ही वह इल्तिजा करते हुए अपनी वजह बताए, लेकिन उसकी एक भी न सुनी जाए। फौरन.. उसे गोली का निशाना बनाया जाए। किम जोंग उन का मानना था कि ऐसा करने से देश में कोरोना का खात्मा भी होगा और संक्रमण का खतरा भी रहेगा और तो और यहां तक आदेश दिया था कि कोई भी यदि कोरोना  से संक्रमित हो जाए तो फौरन उसे गोली मार दिया जाए। किम जोंग उन की शब्दकोष में उपचार, सोशल डिस्टेंसिंग जैसे शब्दों के लिए कोई जगह नहीं है।

अब अस्पतालों का हो रहा निर्माण
हालांकि दक्षिण कोरिया के तानाशाह का शासक किम जोंग उन महामारी के दौर में कोरोना पर अंकुश लगाने के लिए लगातार अस्पतालों का निर्माण करवा रहे हैं। सभी नागरिकों  को सख्त हिदायत देते हुए दो टूक कह दिया गया है कि वो सोशल डिस्टेंसिंग समेत अन्य नियमों का पालन करें। उधर, ऐसा न करने वाले लोगों के खिलाफ उचित कार्रवाई की जाए।  इसका भी उचित प्रावधान दक्षिण कोरिया के शासक ने कर दिया है, ताकि लोग सख्ती और संजीदगी से इन नियमों का पालन कर सके। वहीं तनाशाह के इन सभी फरमानों का नतीजा रहा कि देश में एक भी कोरोना का मामला अभी तक सामने नहीं आया है।

ये भी पढ़े :इस BJP विधायक ने कोरोना को खत्म करने के लिए लिया ऐसा संकल्प, जानकर दंग रह जाएंगे आप