Wednesday, January 20, 2021
Home दुनिया US से चीन को बड़ा झटका! हांगकांग मानवाधिकारों का उल्लंघन करने पर...

US से चीन को बड़ा झटका! हांगकांग मानवाधिकारों का उल्लंघन करने पर वीजा किया प्रतिबंध

दुनिया में कोरोना महामारी के फैलने का एकमात्र चीन ही जिम्मेदार है. चूंकि जिस तरीके से चीन की चालबाजी सामने आई है उससे इस बात का अंदाजा लगाया जा रहा था कि चीन के वुहान लैब में जरूर कुछ छेड़छाड़ हुई है जिसका खामियाजा आज पूरी दुनिया को भुगतना पड़ रहा है. खास कर अंतरराष्ट्रीय देशों में यह महामारी ज्यादा फैली है. बता दें कि अब तक कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या कुल 90 लाख क्रॉस कर चुकी है, जबकि मौत के आंकड़ों की हम बात करें तो इसकी संख्या 4,93,000 है. यानि की इतिहास में पहली बार इतनी बड़ी त्रासदी कोरोना वायरस लेकर के आया है. और अभी भी इससे राहत नहीं है. कोरोना वायरस के आंकड़ों में प्रतिदिन इजाफा देखने को मिल रहा है. वहीं इन सबके बीच सबसे ज्यादा प्रभाव अमेरिका, इटली, ब्रिटेन जैसे देशों पर पड़ा है. चूंकि इतने बड़े मौत के ग्राफ में से एक चौथाई मौत का आंकड़ा अकेले अमेरिका का है. जी हां, अमेरिका में अब तक 1,27,000 लोगों की मौत हो चुकी है. जो अपने आप में ही किसी खतरे की घंटी से कम नहीं है. हालांकि इस वायरस को लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति शुरू से है चीन पर हावी रहे हैं. डोनाल्ड ट्रंप का आरोप है कि चीन ने तबाही के लिए इस वायरस को तैयार किया. इसके शुरूआती सैंपल भी चीन ने नष्ट किए थे इस बात का खुलासा भी हुआ है.

ये भी पढ़ें:-भारत-चीन के बीच अगर युद्ध हुआ तो अमेरिका मैदान में कूद पड़ेगा?, जानिए विदेश मंत्री ने क्या कहा

वहीं दुनिया भर में कोरोना महामारी चौथे स्टेज पर पहुंच चुकी है. इसके प्रभाव को देखते हुए वैज्ञानिकों ने भी पूरी दुनिया में हेल्थ अमरजेंसी की घोषणा कर दी है. हालांकि विश्व स्वास्थ्य संगठन भी इस महामारी से हैरान हो चुका है. चूंकि यह एक ऐसा वायरस है जिसके बारे में ठीक से किसी को पता तक नहीं है, लेकिन इसकी वैक्सीन को लेकर अभी समय लग सकता है. बहरहाल दुनिया में फैले कोरोना वायरस को लेकर अब चीन की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर काफी निंदा की जा रही है. हाल ही में लद्दाख हिंसा के बाद चीन का बड़े पैमाने पर भारत में बहिष्कार किया जा रहा है. और अब UN के मंच पर भी चीन को किरकरी का सामना करना पड़ रहा है.

USA

इस बीच अमेरिका ने भी चीन को बड़ा झटका दे दिया है, दरअसल अमेरिका ने चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के अधिकारियों पर वीजा प्रतिबंध लगाने की घोषणा की है. अमेरिका ने चीन पर हांगकांग में मानवाधिकारों और मूल स्वतंत्रता को अहमियत न देने का आरोप लगाया है. अमेरिका उन अधिकारियों को वीजा नहीं देगा, जो हांगकांग की स्वायत्ता और मानवाधिकारों को खत्म करने के लिए जिम्मेदार हैं. संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयोग ने कहा है कि प्रदर्शनकारियों की आजादी का हनन चिंता का विषय है. शिकागो में चीन काउंसेलट के सामने प्रदर्शन हुआ है. जिसे बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है. चीन को पहले इस पर काम करने की जरूरत है. हालांकि चीन के खिलाफ अमेरिका का यह बड़ा फैसला माना जा रहा है.

ये भी पढ़ें:-चीन-नेपाल के बाद अब भूटान ने भी बदले अपने रंग, इस चीज पर रोक लगाकर भारत के लिए बढ़ाई परेशानी!

Most Popular