Asteroids alert NASA

साल 2020 पूरे विश्व के लिए एक नहीं बल्कि कई मुसीबतें लेकर आया है. कोरोना महामारी खत्म नहीं हुई कि, चक्रवाती तूफान और लगातार आ रहे भूकंप से लोगों के मन में दहशत पैदा हो गई है. न जाने कितने लोगों की मौतें इन 6 महीनों में हो चुकी है. अभी इस साल के खत्म होने में 6 महीने बाकी हैं. लेकिन, इसी महीने धरती के बहुत ही पास 3 उल्कापिंड गुजरेंगे. इस बात की NASA से मिली है. ग्लोबलन्यूज.कॉम की एक रिपोर्ट की मानें तो, नासा के सेंटर फॉर नियर अर्थ ऑब्जेक्ट्स स्टडीज का कहना है 6 जून से धरती के पास से कई अंतरिक्ष चट्टानें (Asteroids) निकलेंगी.

6 जून को गुजरेगा उल्कापिंड
6 जून को धरती के करीब से गुजरने वाले उल्कापिंड का नाम वैज्ञानिकों ने 163348 (2002 एनएन 4) 0.05 एयू रखा है जो 7.48 मिलियन किलोमीटर की गति से सूर्य कक्ष से होते हुए धरती के कक्ष में प्रवेश करेगा. बात अगर समय की करें तो करीब 3 बजकर 20 मिनट पर उल्कापिंड धरती के करीब होगा.

8 जून को फिर गुजरेगा उल्कापिंड
6 जून के बाद 8 जून को फिर से उल्कापिंड धरती के नजदीक से निकलेगा. इसे वैज्ञानिकों ने उल्कापिंड 2013 एक्सए22 (Asteroid 2013 XA22) का नाम दिया है.NASA-Alert-Asteroid-6-june-2020 जो 3 बजकर 40 मिनट पर धरती के कक्षा में घुसेगा. ये उल्कापिंड छोटा तो है लेकिन यह एनएन 4 के मुकाबले काफी करीब से 24,050 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से गुजरेगा.

24 जून को गुजरेगा तीसरा उल्कापिंड
6 जून और 8 जून के बाद तीसरा उल्कापिंड 24 जून को धरती के पास से गुजरेगा. इसे उल्कापिंड 2010 एनवाई65 (Asteroid 2010 NY65) नाम दिया गया है. जिसे करीब एक दशक पहले खोजा गया था. ये 24 जून की सुबह 6 बजकर 44 मिनट पर तीव्र गति से गुजरेगा. इसकी लंबाई 310 मीटर बताई है और इसकी स्पीड उन दो उल्कापिंडों से ज्यादा होगी. इस उल्कापिंड की स्पीड 46,400 किलोमीटर प्रति घंटा है.

वैज्ञानिकों की कड़ी नजर
धरती के नजदीक से होकर गुजरने वाले तीनों उल्कापिंडों से भले ही पृथ्वी को खतरा नहीं है. इसके बावजूद वैज्ञानिकों की पैनी नजर है इनपर. क्योंकि, कई बार आखिरी समय में उल्कापिंड पृथ्वी में प्रवेश कर जाते हैं जिससे भारी नुकसान के साथ कई आपदाएं जन्म ले लेती हैं. कहा जाता है कि, डायनासोर भी इसी वजह से धरती से लुप्त हुए हैं.

ये भी पढ़ेंः- धरती की तरफ तेज गति से बढ़ रहा है उल्का पिंड, NASA ने जारी की चेतावनी, हो सकता है विनाश!