Aircraft carrier gerald ford bomb blast

कोरोना महामारी के बीच चीन लगातार लगातार अपने नापाक इरादों को अंजाम देने में लगा हुआ है। भारत ही नहीं बल्कि अमेरिका से भी चीन के संबंध ठीक नहीं चल रहे हैं। अब अमेरिका की तरफ से ऐसा धमाका किया गया है जिसकी गूंज ड्रैगन को ही नहीं बल्कि पूरे विश्व को सुनाई दे रही है। जी हां, चीनी नौसेना (Chinese Navy) की बढ़ती समुद्री ताकत से निपटने के लिए अमेरिका ने अपने नए एयरक्राफ्ट कैरियर (Aircraft Carrier) का परीक्षण करने के लिए समुद्र के अंदर भीषण बम ब्लास्ट किया है। जिसे कई लोग खतरनाक बता रहे हैं तो विशेषज्ञ भी अमेरिका के इस कदम से हैरान हुआ है। इस घटना का एक वीडियो भी जारी किया गया है जो तेजी से वायरल हो रहा है।

18 हजार किलो का बम
अमेरिका ने अपने जिस नए एयरक्राफ्ट कैरियर (Aircraft Carrier) का टेस्ट किया है वह करीब 18 हजार किलोग्राम का है। इसे समुद्र के बीच में गिराया गया जिससे भीषण बम धमाका हुआ और भूकंप आ गया। जोरदार धमाके की आवाज इतनी तेज थी कि कई दूर तक गूंज सुनाई दी। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो अमेरिकी नौसेना ने पानी के अंदर बम ब्लास्ट किया था लेकिन एयरक्राफ्ट कैरियर पानी की सतह से ऊपर था। ट्रायल करने का मकसद इसकी क्षमता जानना था जिससे पता चल सके कि अगर बम हमला होता है तो एयरक्राफ्ट उसे झेल सकता है या नहीं। इस महाबम धमाके को यूएसजीएस ने रिकॉर्ड कर वीडियो जारी किया है।

समुद्र में हुए महाविस्फोट को अमेरिकी नौसेना (US Navy) ने फुल शिप शॉक ट्रायल बता दिया है। बताया जा रहा है कि, ब्लास्ट के कारण समुद्र के भीतर 3.9 की तीव्रता वाला भूकंप आया और पूरी तरह धरती हिल गई। अमेरिका के इस परीक्षण को विशेषज्ञों ने असामान्य बताया है। वहीं वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद कई लोग हैरान हैं, लोग जमकर इस वीडियो पर प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं और इसे खतरनाक बता रहे हैं।

ये भी पढ़ें- रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने उत्तर प्रदेश के राजनीतिक भविष्य और चीन के खिलाफ रणनीति का किया खुलासा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here