OTC मलहम से होगा कोरोना मरीजों का इलाज! कंपनी ने कहा- ‘कारगर है दवा’

42

दुनियाभर में वैश्विक बीमारी का रूप ले चुका कोरोना वायरस का कहर प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। कोरोना वायरस के आंकड़ों ने वैज्ञानिकों की नींद उड़ा कर रख दी है। अब बस हर कोई आंखे गढ़ाए इस वैक्सीन की उम्मीद में बैठा है। कब यह वैक्सीन तैयार हो? और कब लोगों को इस महामारी से निजात मिले। हालांकि कई देशों में कोरोना वैक्सीन को लेकर बड़े पैमाने पर क्लीनिकल ट्रायल किया जा रहा है। कुछ देशों ने तो कोरोना वैक्सीन बनाने का दावा भी कर दिया है। हाल ही में रूस ने कोरोना वैक्सीन बनाने का डंका पूरी दुनिया में पीटा था। लेकिन विश्व स्वास्थ्य संगठन की मोहर न लगने के चलते लोग रूस की इस वैक्सीन को दावा ही समझ रहे हैं, जबकि रूस इस बात को पहले ही कह चुका है कि वैक्सीन का परिणाम काफी अच्छा रहा है, राष्ट्रपति पुतिन की बेटी को इस वैक्सीन का टीका भी दिया गया जो बिल्कुल असरदार रहा। वहीं इस बीच अमेरिका की एक दवा कंपनी (pharmaceutical) ने एक ऐसा मलहम तैयार किया है जिससे कोरोना संक्रमण को समाप्त किया जा सकता है।

ये भी पढ़ें:-बन गई कोरोना की वैक्सीन! पहले ट्रायल में वैज्ञानिकों को मिली बड़ी सफलता

कंपनी ने दावा करते हुए कहा (Ointment) नाम का यह मलहम कोरोना से लड़ रहे मरीजों के लिए काफी लाभदायक साबित होगा। इस मलहम प्रोजेक्ट (Ointment) से जुड़े एक वैज्ञानिक ने कहा कि एफडीए पंजीकृत ‘नॉन प्रिस्क्रिप्शन

ओवर द काउंटर’ (OTC) मलहम ने कोरोना वायरस सहित अन्य विषाणु संक्रमणों से बचाव करने, उपचार करने और उन्हें समाप्त करने की क्षमता साबित की है।

कंपनी ने एक बयान में दावा किया है कि इस मलहम प्रोजेक्ट (Ointment) को लंदन स्थित अनुसंधान प्रयोगशाला में इस्तेमाल किया गया था, जो कोरोना वायरस से लड़ने में काफी कारगर रहा। प्रयोगशाला से प्राप्त रिपोर्ट में देखा गया कि  टी3एक्स (T3x) उपचार के बाद संक्रमण फैलाने वाला कोई विषाणु नहीं पाया गया।

एडवांस्ड पेनिट्रेशन टेक्नोलॉजी के संस्थापक डॉ ब्रायन ह्यूबर (Dr. Brian Huber) ने कहा, ‘हमें उम्मीद है कि यह एक महत्वपूर्ण खोज साबित होगी जो नाक के जरिए कोरोना वायरस के अंदर जाने की आशंका को कम करेगा।

मालूम हो कि पूरी दुनिया में कोरोना वायरस मरीजों की संख्या 2 करोड़ 3 लाख से अधिक पहुंच गई है, जबकि मौत का आंकड़ा 8 लाख से कुछ कम ही है। वहीं अगर राहत की बात की जाए तो 1 करोड़ 4 लाख से अधिक लोग इस बीमारी से जंग जीतने में कामयाब रहे हैं।

ये भी पढ़ें:-कोरोना संकट के बीच इस राज्य में बढ़ाया गया लॉकडाउन, जारी हुई नई गाइडलाइन