इस तरह डायबिटीज लोगों को बना रही है अपना शिकार, इन लक्षणों से पहचानें बीमारी

0
415
diabetes ke lakshan
Loading...

आज के दौर में डायबिटीज एक आम बीमारी हो गई है। जिसके चपेट में सिर्फ बुजुर्ग और युवा ही नहीं बल्कि बच्चे भी आने लगे हैं। बच्चों में ये बीमारी से खासतौर से बढ़ रही है। बीमार फैलने का मुख्य कारण है, खान-पान पर ध्यान ना देना। सेहत के प्रति लापरवाह बने रहना। डायबिटीज का सबसे आम कारण हाइ- ब्लड शुगर होता है। इस बीमारी का इलाज डॉक्टर की देख-रेख में ही किया जाना चाहिए। ऐसा करने से सेहत पर किसी तरह का कोई बुरा प्रभाव नहीं पड़ता। अगर इस बीमारी से खुद से आप कोई दवाई या उपचार लेते हैं तो वो आपकी सेहत पर भारी पड़ सकती है। ऐसा करने से कई बार व्यक्ति की जान तक चली जाती है। इसलिए जब भी आपको डायबिटीज के लक्षण दिखाई दें तो फौरन डॉक्टर से संपर्क करें। ऐसा करने से आपको समय पर इलाज भी मिल जाएगा और आप जल्द स्वस्थ भी हो जाएंगे। पर डायबिटीज के लक्षण कैसे पता करें इसके लिए आप ये लेख पढ़ें, और डायबिटीज के लक्षणों को पहचानें।

डायबिटीज के लक्षण

आमतौर पर शुगर दो प्रकार की होती है। इसलिए पहले इसके लक्षण जानते हैं।

  • प्रतिरक्षा प्रणाली में कमी आना
  • संक्रमण से लड़ने के लिए शरीर का कमजोर होना
  •  शरीर में पैंक्रियास द्वारा इंसुलिन का कम उत्पादन
  •  वायरल या जीवाणु संक्रमण
  •  भोजन के भीतर रसायनिक विष
  •  अज्ञात घटक जिससे ऑटोइम्यून प्रतिक्रिया होती है

ये सारे लक्षण व्यक्ति के शरीर में एक हफ्ते के ही भीतर दिखने लगते हैं। तो वहीं दूसरे प्रकार की शुगर में इस तरह के लक्षण दिखाई देते हैं।

दूसरी प्रकार की शुगर के लक्षण
• अस्त-व्यस्त जीवन शैली
• अधिक वजन एवं मोटापा
• शारीरिक निष्क्रियता एवं अन्य प्रतिक्रिया होती है जो शरीर में अक्सर कई सालों में धीरे-धीरे विकसित होते हैं।

शुगर में बढ़ जाता है ग्लूकोज का स्तर
इस बात को बहुत ही कम लोग जानते हैं कि, शुगर एक ऐसी बीमारी है जो व्यक्ति को कई सालों से जकड़ती है। कई बार मरीज को उस अवस्था में आकर पता चलता है जब शुगर लेवल काफी हद तक बढ़ जाता है। इस बीमारी में खून में ग्लूकोज की स्तर बढ़ जाती है। ऐसा उस स्थिति में होता है जब पैक्रियास द्वारा उत्पादित इंसुलिन रक्त में ग्लूकोज को कम करता है तो इंसुलिन का शरीर में संतुलन बिगड़ जाता है और शरीर इंसुलिन का सही उपयोग नहीं कर पाता।

शुगर के सामान्य लक्षण
शरीर में बार-बार संक्रमण होना, जी मिचलाना, उल्टी, धुंधली दृष्टि, भूख ज्यादा लगना या बिलकुल न लगना, निर्जलीकरण, वजन घटना या अचानक कम होना, अधिक थकान का महसूस होना और शुष्क मुंह होना इसके प्रमुख लक्षण है। इन सब लक्षणों के अलावा और भी कई कारण है जैसे…

  • किसी घाव का धीमी गति से भरना
  • त्वचा पर अचानक खुजली होना
  • शरीर में संक्रमण के लिए संवेदनशीलता में वृद्धि
  • अधिक प्यास लगना
  • बार-बार पेशाब आना
  • पैर या हाथों में सुन्नता या झुनझुनी
  • शरीर में कमजोरी आना

शुगर लेवल कम करने के घरेलू उपाय
वैसे तो शुगर होने पर एक बार डॉक्टर दिखाना जरूरी होता ही है। पर शुगर लेवल को कुछ घरेलू उपायों की मदद से भी जल्द ही ठीक किया जा सकता है।

व्यायाम
रोज़-मर्रा की ज़िन्दगी में कम-से-कम 30 से 40 मिनट व्यायाम करना आपके लिए महत्वपूर्ण है। हल्के व्यायाम जैसे योग करने से या रोज़ टहलने से ग्लूकोज़ लेवल पर प्रभाव पड़ता है। भोजन के एक घंटे बाद धीमी गति से टहलने पर स्वास्थ्य में बदलाव भी आता है। लेकिन, खाने के तुरंत बाद भूलकर भी व्यायाम ना करें।

तले-भुने खाने से बनाएं दूरी
अगर आप शुगर के शिकार हो चुके हैं। और हमेशा दवाइयों को खाने से बचना चाहते हैं। तो कुछ चीजों का ध्यान रखकर आप शुगर से निजात पा सकते हैं।

      1. समय-समय पर शुगर चेक कराएं
      2. जंक-फूड, एल्कोहल का सेवन नहीं करें
      3. पैकेट बंद चीजें जैसे चिप्स, बिस्कुट, नमकीन, आदि
      4. सॉफ्ट ड्रिंक्स
      5. कोरमा या ग्रेवी वाला मांसाहारी खाना
      6. स्टार्च-युक्त खाद्य पदार्थ जैसे मैदे की ब्रेड, पास्ता, चावल, और सूजी या मैदे से बनी हुई चीजें से दूरी बनाकर रखें
      7. इनके बदले में आटा, जई, जुआर या बाजरे से बने आहार खाएं, जिनसे आपका ग्लूकोज नियंत्रण में रहेगा और शरीर को फाइबर मिलेगा।
      8. इसके अलावा हल्का-फुल्का खाने के लिए कटे हुए फल, छाछ, स्प्राउट या उबले हुए अंडे का सेवन करें। शुगर को नियंत्रण में रखने के लिए दिन में खाना कम-कम अतंराल में खाएं। ये भी पढ़ेंः- अगर आप भी हैं शुगर के मरीज, तो जरूर करें इन फलों का सेवन, छूमंतर हो जाएगी शुगर
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here