आज की भागदौड़ भरी लाइफ में करोड़ों लोग डायबिटीज (DIABETES) यानी मधुमेह की बीमारी से पीड़ित हैं और लगातार डायबिटीज के मरीजों की संख्या बढ़ती ही जा रही है। कंसलटेंट फिजिशियन के अनुसार आने वाले वर्षों में दुनिया में सबसे अधिक डायबिटीज के मरीज भारत में हैं। आपको बता दें कि मधुमेह की बीमारी में ब्लड शुगर का स्तर अनियंत्रित रूप से घटता-बढ़ता रहता है। हाई ब्लड शुगर लेवल की वजह से घटक स्थिति तक व्यक्ति के सामने आ सकती है।

यदि आपको ज्यादा पेशाब आ रहा है, ज्यादा प्यास और भूख लग रही है, अचानक से वजन बढ़ रहा है और बाद में घट रहा है तो ये डायबिटीज के लक्षण हो सकते हैं। यदि मधुमेह के गंभीर लक्षणों की बात करें तो इसकी वजह से आंखों की रोशनी धुंधली होना, ब्लड प्रेशर की शिकायत भी हो सकती हैं।

Overview of Diabetes Mellitusसाथ ही जब डायबिटीज के मरीजों को हार्ट अटैक आता है तो उन्हें साइलेंट चेस्ट पेन होता है। डॉक्टर के अनुसार मधुमेह के ज्यादातर मरीजों को पता नहीं चल पाता कि उन्हें दिल का दौरा पड़ रहा है, बस उन्हें सांस लेने में थोड़ी परेशानी होती है। इसके कारण सही समय पर उनका इलाज नहीं हो पाता।

कंसलटेंट फिजिशियन के अनुसार डायबिटीज के मरीजों में पेरिफेरल न्यूरोपैथी की समस्या हो सकती है, इसका मतलब पैर और हाथों में मौजूद नर्व्स का काम करना धीरे-धीरे कम हो जाता है। यदि किसी कारण मरीज को चोट लग जाए तो उसे बहुत दिनों तक मालूम ही नहीं चल पाता है।

Neuropathy: Dealing with Dreaded Diabetes Nerve Painपैरों में सूजन को ना करें अनदेखा

डायबिटीज के मरीजों को सबसे ज्यादा किडनी की शिकायत होती है। ऐसे में मधुमेह के मरीजों को पैरों में सूजन को अनदेखा नहीं करना चाहिए। साथ ही मधुमेह के मरीजों में दिल का काम करना भी कम हो जाता है, इसकी वजह से भी पैरों में सूजन आ जाती है। इसलिए डायबिटीज के मरीजों को लक्षणों पर ज्यादा ध्यान रखना चाहिए।

Unusual Symptoms of Diabetes: 12 Signs to Know Aboutत्वचा का इंफेक्शन

मधुमेह के रोगियों को स्किन इंफेक्शन भी बहुत ज्यादा होते हैं। क्योंकि उनकी रोग-प्रतिरोधक क्षमता भी कमजोर हो जाती है। ऐसे में यदि आपको कोई फंगल इंफेक्शन हो गया है तो तुरंत अपने डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए।

इसे भी पढ़ें:- सितंबर में इन ग्रहों का होगा राशि परिवर्तन, 5 राशियां रहेंगी भाग्यशाली, मिलेगा धन और खुशियां